कमलेश तिवारी हत्या कांड में बड़ा खुलासा, होटल में बैग और खून से सने भगवा कपड़े मिले

मिली जानकारी के मुताबिक होटल के रजिस्टर में दर्ज नामों के मुताबिक इस होटल में शेख असफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद ठहरे थे। होटल के कमरे के अंदर बनी अलमारी में बैक, लोअर, लाल रंग का कुर्ता पड़ा है. बेड़ पर भगवा रंग का कुर्ता पड़ा है।

0
998
कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया मोड़, हुआ कुछ ऐसा

नई दिल्ली। कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया खुलासा हुआ है। राजधानी दिल्ली के खालसा होटल से संदिग्ध सामान बरामद हुआ है। कमरे से भगवा कपड़े मिले हैं। बरामद कपड़ों पर खून के निशान मिले हैं। पुलिस मौके पर पहुंची है। पुलिस ने संदिग्ध सामान को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।

दरअसल, शनिवार रात को जांच में जुटी पुलिस टीम को सूचना मिली कि पश्चिम क्षेत्र अंतर्गत होटल खालसा इन के कमरे में  कुछ भगवा कपड़े और बैग पड़ा है। इस सूचना पर लखनऊ पुलिस मौके पर पहुंची और मौके पर फील्ड यूनिट को बुलाकर विभिन्न सबूत जमा किए गए। उच्च अधिकारियों द्वारा भी मौका मुआयना किया गया है।

ये भी पढ़ें: हिंदू समाज पार्टी अध्यक्ष कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या, ISIS की हिटलिस्ट में थे तिवारी

जांच में सामने आया है कि अशफाक और मोईनुद्दीन ने होटल में कमरा बुक कराया था। दोनों असली नाम से ही आकर होटल में रुके थे। जानकारी के मुताबिक, 17 अक्तूबर को रात 11 बजे होटल आए थे। 18 अक्टूबर को सुबह साढ़े 10 बजे होटल से निकल गए।

दोपहर 1.21 बजे होटल में वापस आए। इसके बाद दोपहर को 1.37 बजे  पर वापस निकल गए। उद्योगनगरी एक्सप्रेस से दोनों हत्यारे कानपुर पहुंचे थे। सड़क से दोनों हत्यारे लखनऊ पहुंचे थे।  पुलिस ने प्रेस रिलीज में खुलासा किया है।

आपको बता दें कि शुक्रवार को लखनऊ में नाका के खुर्शीदबाग की तंग गलियों में रहने वाले हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी (50) की दो बदमाशों ने बेरहमी से हत्या कर दी। दोनों बदमाश मिठाई के डिब्बे में पिस्टल व चाकू छिपाकर कमलेश के घर की पहली मंजिल पर स्थित दफ्तर पहुंचे।

ये भी पढ़ें: सरकार ने मानी कमलेश के परिवार की मांगें, अंतिम संस्कार के लिए राजी हुए परिजन

वहां उन्होंने पहले उनकी गर्दन पर गोली मारी। फिर चाकू से ताबड़तोड़ वार करने के बाद गला रेत दिया। हत्या की वारदात से अफसरों में हड़कंप मच गया। हिंदूवादी संगठन के पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं में उबाल आ गया। हजारों लोग सड़क पर निकल आए और अमीनाबाद का बाजार बंद कराकर पुलिस-प्रशासन व सरकार विरोधी नारेबाजी करने लगे।

हत्याकांड का यूपी पुलिस ने 24 घंटे में खुलासा कर दिया। पुलिस ने घटना में शामिल तीन लोगों को गुजरात के सूरत से गिरफ्तार किया है। वहीं, बिजनौर से षड्यंत्र में शामिल मौलाना अनवारुल हक और मौलाना नईम कासनी को हिरासत में लिया गया है।

ये भी देखें: 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here