सैनिकों ने बलिदान देकर चीन घुसपैठ नाकाम की : पीएमओ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि कोई भी भारतीय क्षेत्र में नहीं घुसा और न ही किसी भारतीय चौकी पर कब्जा किया गया।

0
350
PMO
File Picture

Delhi: कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) सहित विपक्ष के कई नेताओं के सवाल के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने पीएम की टिप्पणियों पर स्पष्टीकरण जारी किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा था कि कोई भी भारतीय क्षेत्र में नहीं घुसा और न ही किसी भारतीय चौकी पर कब्जा किया गया। जिसके बाद राहुल गांधी सहित विपक्ष के कई नेताओं ने सवाल उठाया था कि यदि चीन (China) ने घुसपैठ नहीं किया था तब सैनिकों की शहादत हुई कैसे?

शनिवार को पीएमओ (PMO) की ओर से जारी बयान में साफ किया गया है कि चीन (China) ने घुसपैठ का प्रयास तो किया लेकिन सैनिकों ने बलिदान देकर ढांचागत निर्माण और अतिक्रमण की कोशिशों को नाकाम कर दिया।

अनलॉक 1 में अब तक 2 लाख से ज्यादा कोरोना मामले

पीएमओ की ओर से जारी बयान में यह भी कहा गया है सर्वदलीय बैठक में यह स्पष्ट कर दिया गया था कि प्रधानमंत्री का स्पष्ट रुख है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार करने की किसी भी कोशिश का मजबूती से जवाब दिया जाएगा। और सरकार लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) में कोई एकतरफा बदलाव नहीं होने देगी।

बयान में ये भी कहा गया “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसे समय में प्रधानमंत्री की टिप्पणियों पर अनावश्यक विवाद पैदा किया जा रहा है जब वीर सैनिक हमारी सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं।” सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री की टिप्पणियां गलवान में 15 जून को हुई घटनाओं पर केंद्रित थी जिसमें 20 सैनिकों को जान गंवानी पड़ी।

6 राज्यों के 25 हजार मजदूरों के लिए शुरु की गई योजना

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए शनिवार को कहा कि चीनी घुसपैठ पर सर्वदलीय बैठक में दिया गया मोदी का बयान साबित करता है कि चीनी आक्रमकता के सामने उन्होंने समर्पण कर दिया है। उन्होंने सवाल किए कि ‘यदि भूमि चीनी थी तो हमारे सैनिकों को क्यों मारा गया और वे जाबाज कहां मारे गए थे।’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान को लेकर शनिवार को सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री ने चीन को क्लीन चिट दे दी है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here