वुहान से लौटे कश्मीरी छात्र से PM मोदी की बातचीत, साझा किया लॉकडाउन का अनुभव

0
445
PM Narender Modi
PM Narender Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के वुहान शहर से भारत लौटे कश्मीरी छात्रों से बात की है. इन छात्रों ने पीएम मोदी के साथ अपना अनुभव साझा किया. बता दें कि चीन के वुहान शहर से ही सबसे पहले कोरोना वायरस की शुरूआत हुई थी. पीएम नरेंद्र मोदी से फोन पर बात करते हुए एक छात्र ने कहा कि वुहान में जब लॉकडाउन की घोषणा की गई तो मेडिकल का छात्र होने के बावजूद वह डर गया था.

कश्मीर के बनिहाल के रहने वाले निजामुर रहमान ने प्रधानमंत्री से बातचीत में भारत सरकार का धन्यवाद किया. छात्र ने कहा कि वुहान में हालात खराब होते उससे पहले ही भारत सरकार ने उन लोगों को वहां से निकाल लिया. गौरतलब है कि निजामुर रहमान 60 कश्मीरी छात्रों के साथ वुहान से एअर इंडिया के जरिए भारत आया था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब रहमान से उसका अनुभव पूछा तो उसने कहा कि वुहान में उसका अधिकतर समय लॉकडाउन में गुजरता था. बातचीत के दौरान पीएम ने कहा कि लोग समझते हैं कि लॉकडाउन जेल जैसा है, लेकिन ऐसा नहीं है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बातों से सहमति जाहिर करते हुए रहमान ने कहा, कोरोना का मुकाबला करने के लिए लॉकडाउन बहुत जरूरी है. उसने कहा कि लॉकडाउन से ही इस बीमारी के संक्रमण को रोका जा सकता है. पीएम नरेंद्र मोदी ने पुणे के नायडू अस्पताल की नर्स छाया से भी बात की और उनका आभार जताया.

छाया ने पीएम से कहा कि मुझे अपने परिवार की चिंता है, लेकिन इस घड़ी में लोगों की सेवा करना हमारा कर्तव्य भी है. मैं दोनों तरफ मैनेज कर रही हूं. दरअसल, चीन के हुबेई प्रांत का वुहान शहर कोरोना वायरस के संक्रमण का केंद्र रहा है. माना जा रहा है कि वुहान शहर से ही कोरोना वायरस दूसरे शहरों में फैला.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here