देश के इन शहरों में एक बार फिर लॉकडाउन जारी

आईएमए का कहना है कि अब तक 93 डाक्टर कोरोना की वजह से जान गंवा चुके हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन कह रहा है कि हालात अभी और बिगड़ेंगे.

0
736
Lockdown in India

Delhi: देश में एक भी से लॉकडाउन (Lockdown) का दौर लौट रहा है. देश के कई शहरों में आज से एक बार फिर लॉकडाउन (Lockdown in India) लागू हो रहा है. जिससे एक बार फिर आम होती जिंदगी की रफ्तार कम होने जा रही है. दरअसल, देश में हर रोज कोरोना वायरस (Corona Virus) के मामले नए रिकॉर्ड बना रहे हैं. देश में कोरोना (Covid19) के मामले नौ लाख तक पहुंच चुके हैं. आईएमए (IMA) का कहना है कि अब तक 93 डाक्टर कोरोना की वजह से जान गंवा चुके हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कह रहा है कि हालात अभी और बिगड़ेंगे.

क्या कोरोना वायरस की वैक्‍सीन बनाने में कामयाब हुआ रुस ?

ऐसे में सवाल ये कि क्या अनलॉक (Unlock) से हालात बिगड़ रहे है. क्या फिर से सख्ती की जरूरत महसूस की जाने लगी है. कई राज्यों ने मंगलवार को फिर से लॉकडाउन (Lockdown in India) के जो फैसले किए उससे तो यही लगता है कि अनलॉक की छूटों से कोरोना को पैर पसारने में मदद मिल रही है. कोरोना को काबू करने के लिए गुजरात के अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत में सरकारी बसों को फिर बंद कर दिया गया है. ग्वालियर में एक दिन 191 केस आए तो आज शाम सात बजे से एक हफ्ते तक टोटल लॉकडाउन लागू हो रहा है. बिल्कुल कफ्यू की तर्ज पर सख्ती होगी.

कोरोना को लेकर WHO की चेतावनी, आखिर ऐसा क्यों कहा ?

आज रात से बेंग्लुरु समेत दक्षिण कर्नाटक में एक हफ्ते का लॉकडाउन लागू किया जा रहा है. महाराष्ट्र के पुणे और पिंपरी-चिंचवाड़ में आज रात से 10 दिनों का लॉकडाउन लागू हो रहा है. पुणे में 14 जुलाई से 23 जुलाई तक लॉकडाउन लागू रहेगा. जम्मू कश्मीर के कुछ इलाकों में फिर से लॉकडाउन लागू कर दिया गया है. वहीं, उत्तर प्रदेश में हर शनिवार और रविवार को लॉकडाउन लागू रहेगा. वाराणसी में पांच दिनों (सोमवार से शुक्रवार) तक आधे दिन का लॉकडाउन लागू किया गया है. पाबंदिया शाम के 4 बजे के बाद लागू हो जाएंगी.

देशभर में कोरोना 8 लाख के पार, पिछले 24 घंटे में 28,701 नए मामले

वही उत्तराखंड के उधमसिंहनगर में आज से 72 घंटे का लॉकडाउन लागू किया गया है। कुल मिलाकर तमाम सूबे कोरोना से सहम गए है. शहरों में फिर सन्नाटा पसर रहा है. लॉकडाउन का दौर फिर आ रहा है, लेकिन ये भी तय है कि असली बचाव खुद लोगों के एहतियात बरतने, मास्क का इस्तेमाल करने और सोशल डिस्टेंसिंग से ही होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here