देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा नोएडा, 2023 से होगा शुरु

देश का सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट नोएडा में बनने जा रहा है। एयरपोर्ट लिमिटेड और ज्यूरिख कंपनी देंगी मंजूरी।

0
182
Noida International Airport
देश का सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट नोएडा में बनने जा रहा है। एयरपोर्ट लिमिटेड और ज्यूरिख कंपनी देंगी मंजूरी।

Noida: देश का सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट नोएडा (Noida International Airport) में बनने जा रहा है। नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड और ज्यूरिख कंपनी इस बात की मंजूरी देंगे। जिसके बाद 2023 में उड़ान शुरू होने की उम्मीद (Noida International Airport) दोगुनी हो जाएगी। ज्यूरिख कंपनी के प्रतिनिधि पहले ही भारत आ चुके हैं। 

अधिकारियों के अनुसार, नोएडा एयरपोर्ट के निर्माण के लिए ज्यूरिख इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड एजी ने यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड (Noida International Airport) के नाम से स्पेशल परपज व्हीकल कंपनी बनाई है। कोरोना को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन प्रेसवार्ता की जाएगी। इसमें कई देशों के मीडिया प्रतिनिधि भी शामिल होंगे। हालांकि मीटिंग की तारीख अब तक तय नही हुई है। 

शाहीन बाग पर SC का फैसला, सार्वजनिक स्थानों पर कब्जा गलत

ज्यूरिख इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड एजी के अधिकारी मलेशिया और स्विट्जरलैंड से भी ऑनलाइन इस करार में शामिल होंगे। इसके लिए यीडा और नियाल (Noida International Airport) के दफ्तर को सजाकर गमलों पर चित्रकारी की गई है। इसके लिए दिल्ली विवि आर्ट्स के छात्रों को बुलाया गया है। दिन भर रंगाई-पुताई का काम चलता रहा।

एयरपोर्ट बनाने की तिथि दो बार पहले टल चुकी है। कोरोना के कारण उड़ानें न होने से ज्यूरिख कंपनी के प्रतिनिधि देश में नहीं आ पा रहे थे। ज्यूरिख कंपनी (International Airport Limited) की तरफ से गठित एसपीवी कंपनी को सिक्योरिटी क्लीयरेंस मिलने के 45 दिन के भीतर कंसेशन एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर होना जरूरी होता है। 

28 दिन बाद जेल से रिहा हुईं रिया, भाई शोविक की याचिका खारिज

बता दें कि राज्य सरकार और नोएडा प्राधिकरण की 37.5-37.5 प्रतिशत हिस्सेदारी है। ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण की 12.5-12.5 प्रतिशत (International Airport Limited) की हिस्सेदारी है। कई बड़ी कंपनियों ने आवेदन किए थे, लेकिन सबसे ज्यादा राजस्व देने की बोली लगाकर ज्यूरिख ने करीब 29,500 करोड़ रुपये के नोएडा एयरपोर्ट प्रोजेक्ट को हासिल कर लिया। कंपनी ने 400.97 रुपये प्रति यात्री राजस्व देने का प्रस्ताव दिया, जबकि अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड ने 360 रुपये, दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने 351 रुपये और एनकोर्ज इंफ्रास्ट्रक्चर इनवेस्टमेंट होल्डिंग लिमिटेड ने 205 रुपये प्रति यात्री राजस्व देने की बोली लगाई थी। 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here