जल्द हो सकती है निर्भया गैंगरेप के दोषियों को फांसी, पवन को लाया गया तिहाड़ जेल

राजधानी दिल्ली में साल 2012 में हुए निर्भया कांड को 16 दिसंबर में 10 साल होने जा रहे हैं, लेकिन अब तक दोषियों को सजा नहीं दी गई है। हालांकि, चारों दोषियों को फांसी की सजा सुना दी गई थी, लेकिन अब तक उन्हें फांसी दी नहीं गई है। इसी बीच निर्भया गैंगरेप के दोषी विनय शर्मा को दिल्ली की तिहाड़ जेल लाया गया है। अब इस गैंगरेप के चारों दोषी तिहाड़ जेल में बंद हैं।

0
1352

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में साल 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप कांड को 16 दिसंबर में 7 साल होने जा रहे हैं, लेकिन अब तक दोषियों को सजा नहीं दी गई है। हालांकि, चारों दोषियों को फांसी की सजा सुना दी गई थी, लेकिन अब तक उन्हें फांसी दी नहीं गई है। इसी बीच निर्भया गैंगरेप के दोषी पवन को दिल्ली की तिहाड़ जेल लाया गया है। अब इस गैंगरेप के चारों दोषी तिहाड़ जेल में बंद हैं।

पवन इससे पहले मंडोली जेल में बंद था। अब जैसे ही 16 दिसंबर नजदीक है, वैसे ही पवन को तिहाड़ जेल में शिफ्ट किया गया है। पवन से पहले मुकेश, अक्षय और विनय शर्मा को तिहाड़ जेल में बंद किया गया था। निचली अदालत ने इन चारों को गैंगरेप के अपराध में फांसी की सजा सुनाई थी।

ये भी पढ़ेंउन्नाव गैंगरेप पीड़िता की बहन ने CM आवास के सामने आत्मदाह करने की चेतावनी, ये है मांग

बता दें कि दोषी की याचिका को दिल्ली सरकार और केंद्रीय गृहमंत्रालय पहले ही ठुकरा चुके हैं। अब इस याचिका को राष्ट्रपति के पास भेजी गई है। हालांकि, राष्ट्रपति पहले ही कह चुके हैं कि POCSO एक्ट में दया याचिका का प्रावधान नहीं होना चाहिए।

सूत्रों की मानें तो निर्भया कांड में दोषी करार दिए गए चारों लोगों को जल्द ही फांसी दी जा सकती है। बिहार की बक्सर की जेल में दोषियों की फांसी के लिए फंदा तैयार किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि तिहाड़ जेल में किसी जल्लाद के न होने के कारण प्रशासन ने देश के अन्य जेलों से जल्लाद को उपलब्ध कराने के लिए संपर्क किया है।

गौरतलब है कि 16 दिसंबर 2012 को 6 लोगों ने चलती बस में निर्भया से गैंगरेप किया था। इस गैंगरेप में शामिल एक आरोपी ने जेल में ही आत्महत्या कर ली थी, जबकि एक को नाबालिग होने के कारण 3 साल सुधार गृह में रखने के बाद छोड़ दिया गया था। अब जो 4 दोषी बचे हैं, उन्हें फांसी की सजा सुनाई गई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here