करगिल के हीरो MiG-27 की विदाई, जोधपुर एयरबेस में भरी आखिरी उड़ान

तीन दशक तक भारतीय वायुसेना में सेवा करने वाले और करगिल युद्ध के हीरो माने जाने वाले लड़ाकू विमान मिग-27 की आज विदाई हो गई। राजस्थान के जोधपुर एयरबेस में शुक्रवार को 7 लड़ाकू विमानों ने अपनी आखिरी उड़ान भरी। इस दौरान कई अधिकारियों की मौजूदगी में मिग-27 को सलामी भी दी गई।

0
841

नई दिल्ली: तीन दशक तक भारतीय वायुसेना में सेवा करने वाले और करगिल युद्ध के हीरो माने जाने वाले लड़ाकू विमान मिग-27 की आज विदाई हो गई। राजस्थान के जोधपुर एयरबेस में शुक्रवार को 7 लड़ाकू विमानों ने अपनी आखिरी उड़ान भरी। इस दौरान कई अधिकारियों की मौजूदगी में मिग-27 को सलामी भी दी गई।

मिग 27 को साल 1985 में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था। वैसे तो मिग 27 वायुसेना के सभी प्रमुख ऑपरेशन्स में शामिल रहा है, लेकिन इसे 1999 में हुए करगिल युद्ध के लिए खासतौर पर याद किया जाता है। 7 विमानों वाले इस स्क्वाड्रन को आगले साल यानि कि 31 मार्च 2020 को नम्बर प्लेटेड किया जाएगा।

डी-इंडक्शन सेरेमनी में कई कार्यक्रमों का हुआ आयोजन
बता दें कि मिग-27 के रिटायरमेंट के मौके पर राजस्थान के जोधपुर में भारतीय वायुसेना के स्टेशन पर हुए डी-इंडक्शन सेरेमनी में खई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। इस समारोह में कई बड़े अधिकारी शामिल रहे। सेरेमनी की अध्यक्षता साउथ-वेस्ट एयर कमांडर के एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ एयर मार्शल एस के घोटिया ने की

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here