मैनचेस्टर में गांधी की मूर्ति लगाए जाने का विरोध, छात्र बोले- नस्लवादी थे

गांधी की यह मूर्ति अगले महीने लगने वाली है और इसके शिल्पकार राम वी सुतार हैं। संयोग से यह गांधी का 150वीं जयंती साल भी है। छात्र संघ की लिबरेशन एवं एक्सेस अधिकारी सारा खान ने नगर परिषद से अनुमति वापस लेने की मांग की है।

0
767
ब्रिटेन के छात्रों ने महात्मा गांधी का किया विरोध, कहा- नस्लवादी थे

नई दिल्ली। ब्रिटेन में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘मैनचेस्टर कैथेड्रल’ के बाहर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति लगाए जाने के प्रस्ताव के खिलाफ एक अभियान शुरू किया है। स्थानीय अधिकारियों ने गांधी की मूर्ति लगाए जाने को मंजूरी दी है।

विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘‘गांधी मस्ट फॉल’’ अभियान शुरू किया है। विश्वविद्यालय के छात्र संघ ने मैनचेस्टर नगर परिषद को एक खुले पत्र में शहर के बीचोंबीच महात्मा गांधी की 9 फीट ऊंची कांसे की मूर्ति लगाए जाने के निर्णय पर पुनर्विचार करने को कहा है।

ये भी पढ़ें: इस युवा प्रधानमंत्री को मिला 2019 का प्रतिष्ठित नोबेल शांति पुरस्कार

छात्र क्यों कर रहे विरोध

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के छात्र द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट एक पत्र में महात्मा गांधी को, “एंटी-ब्लैक नस्लवादी,” बताया गया है। इस पत्र में मैनचेस्टर कैथेड्रल के बाहर 25 नवंबर को मूर्ति स्थापना को रद्द करने के लिए मैनचेस्टर सिटी काउंसिल से कहा गया है।

छात्रों का आरोप है कि अफ्रीका में ब्रिटिश शासन की कार्रवाइयों में गांधी की सहभागिता थी। पत्र में कहा गया है कि गांधी ने अफ्रीकियों को, ‘असभ्य’ ‘आधे-अधूरे मूल निवासी’, ‘जंगली’, ‘गंदे’ और ‘पशु जैसे’ शब्द के रूप में अपनी कुछ टिप्पणियों में संदर्भित किया था।

ये भी पढ़ें: यूपी के इन तीन विधायकों ने बना दिया गजब का रिकॉर्ड, मिला सम्मान

गांधी की यह मूर्ति अगले महीने लगने वाली है और इसके शिल्पकार राम वी सुतार हैं। संयोग से यह गांधी का 150वीं जयंती साल भी है। छात्र संघ की लिबरेशन एवं एक्सेस अधिकारी सारा खान ने नगर परिषद से अनुमति वापस लेने की मांग की है। वहीं, परिषद के प्रवक्ता ने कहा कि गांधी की मूर्ति लगाने का मुख्य मकसद शांति, प्यार और भाईचारे के उनके संदेश का प्रसार करना है।

मैनचेस्टर सिटी काउंसिल के प्रवक्ता ने कहा कि श्रीमद राजचंद्र मिशन धरमपुर गांधी की मूर्ति को उपहार के तौर पर दिया है। हालांकि हम जानते हैं कि गांधी के जीवन के बारे में कुछ बहस चल रही है, शहर के अधिकांश लोग उस संदर्भ में प्रतिमा देखेंगे, जिसका उद्देश्य था – शांति, प्रेम और सद्भाव का संदेश फैलाना है।

वहीं सोशल मीडिया पर खुद को भविष्य की होम सेक्रेटरी बताने वाली सारा खान ने पत्र में लिखा है कि आधुनिक समय में मोदी सरकार गांधी का उपयोग मानव अधिकारों के दुरुपयोग को छिपाने के लिए प्रचार उपकरण के रूप में कर रही है। हम मांग करते हैं कि मैनचेस्टर सिटी काउंसिल मूर्ति स्थापित करने का फैसला वापस ले।

ये भी पढ़ें: शास्त्री जयंती: पत्नी के लिए साड़ी खरीदने पर दुकानदार से क्यों भिड़ गए थे शास्त्रीजी, जानिए रोचक किस्से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here