भारतीय नौसेना ने बेड़े में शामिल की ‘मारीच’ मिसाइल, जानिए खासियत

भारतीय नौसेना ने कहा कि इसने स्वदेश निर्मित उन्नत टॉर्पीडो विध्वंसक प्रणाली 'मारीच' को अपने बेड़े में शामिल कर लिया है जो अग्रिम मोर्चे के सभी युद्धपोतों से दागी जा सकती है

0
557
Maareech
File Picture

Delhi: अग्रिम मोर्चे के सभी युद्धपोतों से दागी जा सकने वाली ‘मारीच’ मिसाइल (Maareech Missile) शुक्रवार को भारतीय नौसेना (Indian Navy) ने अपने बेड़े में शामिल कर ली है। भारतीय नौसेना ने कहा कि इसने स्वदेश निर्मित (Make in India) उन्नत टॉर्पीडो विध्वंसक प्रणाली (Advance Torpedo Defence System) ‘मारीच’ (Maareech) को अपने बेड़े में शामिल कर लिया है जो अग्रिम मोर्चे के सभी युद्धपोतों से दागी जा सकती है. यह मिसाइल सिसटम किसी भी टॉर्पीडो हमले को विफल करने में नौसेना की मदद करेगा. रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित ‘मारीच’ (Maareech) प्रणाली हमलावर टॉर्पीडो का पता लगाने, उसे भ्रमित करने और नष्ट करने में सक्षम है.

भारत-चीन विवाद के बाद अमेरिका ने बदली सैनिकों की तैनाती

नौसेना ने कहा, “निर्दिष्ट नौसैन्य मंच पर लगे इस प्रणाली के प्रतिरूप ने सभी प्रायोगिक मूल्यांकन परीक्षण सफलतापूर्वक पूरे कर लिए थे और नौसैन्य स्टाफ मानदंड आवश्यकताओं के अनुरूप सभी विशेषता प्रदर्शनों पर यह खरी उतरी थी. ‘मारीच’ (Maareech) को शामिल किया जाना स्वदेशी रक्षा प्रौद्योगिकी के विकास की दिशा में न सिर्फ नौसेना और डीआरडीओ (DRDO) के संयुक्त संकल्प का साक्ष्य है, बल्कि यह सरकार की ‘मेक इन इंडिया’  (Make in India) पहल तथा प्रौद्योगिकी में आत्मनिर्भर बनने के देश के संकल्प की दिशा में एक बड़ा कदम है.”

रुस की विक्ट्री डे परेड में भारतीय जवानों ने दिखाया दम

नौसेना ने कहा कि रक्षा उपक्रम भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड द्वारा इस विध्वंसक प्रणाली का उत्पादन किया जाएगा. अग्रिम पंक्ति के सभी युद्धपोतों से दागे जाने में सक्षम उन्नत टॉर्पीडो विध्वंसक प्रणाली मारीच के लिए एक करार पर पहुंचने के साथ आज भारतीय नौसेना को पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता में बड़ी मजबूती हासिल हुई है.

नरम पड़े चीन के तेवर, तनाव वाले क्षेत्रों से सेना हटाने को राजी

सार्वजनिक क्षेत्र का रक्षा उपक्रम भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड इसके उत्पादन का कार्य करेगा। इस सिस्टम के प्रारूप (प्रोटोटाइप) को एक नामित नौसैनिक मंच पर स्थापित किया गया था जहां इसने सभी उपयोगकर्ता मूल्यांकन परीक्षणों को सफलतापूर्वक पूरा किया और नौसेना के लिए आवश्यक योग्यता के अनुसार अपनी विशेषताओं का प्रदर्शन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here