चीन से सटी सीमा पर इस हथियार का इस्तेमाल करेंगे भारतीय जवान

ये नई राइफलें मौजूदा समय में भारतीय सेनाओं में इस्तेमाल की जा रही इंडियन स्माल आर्म्स सिस्टम (इंसास) 5.56x45 मिमी राइफल को रिप्लेस करेंगी।

0
517
Assault Rifle

Delhi: भारतीय सेना (Indian Army) चीन (China) से सटी सीमा पर तैनात सैनिक के लिए असॉल्ट राइफल (Assault Rifle) खरीदने की तैयारी कर रही है। अमेरिका से पहले ही 72 हजार राइफलें सेना की नार्दन कमांड और दूसरे ऑपरेशन इलाकों में तैनात सैनिकों को मिल चुकी हैं। यह राइफलों का दूसरा बैच होगा। नए हथियारों की खरीद फास्ट-ट्रैक पर्चेज (FTP) के तहत की जा रही है।

क्या कोरोना वायरस की वैक्‍सीन बनाने में कामयाब हुआ रुस ?

अमेरिका की हथियार बनाने वाली कंपनी सिग सॉयर राइफलों (SIG Sauer Assault Rifle) की आपूर्ति करेगी। इन्हें अमेरिका में बनाया जाएगा। ये नई राइफलें मौजूदा समय में भारतीय सेनाओं में इस्तेमाल की जा रही इंडियन स्माल आर्म्स सिस्टम (इंसास) 5.56×45 मिमी राइफल को रिप्लेस करेंगी। आतंकवाद विरोधी अधियान और एलओसी पर तैनात जवानों के लिए 1.5 लाख राइफलें इंपोर्ट की जानी हैं। बाकी जवानों को AK-203 राइफलें दी जाएंगी। इनको भारत और रूस मिलकर अमेठी की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में बनाएंगे। इस प्रोजेक्ट पर काम जारी है। अधिकारियों ने रविवार को ये जानकारी देते हुए बताया कि यह खरीद ऐसे समय में की जा रही है जब पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में भारतीय और चीनी सेना के बीच सीमा पर तनाव की स्थिति है. उन्होंने बताया कि इन राइफल का इस्तेमाल चीन से सटी सीमा पर तैनात सैनिक करेंगे.
SIG Sauer Assault Rifle

Rajasthan Government: सचिन पायलट हो सकते है बीजेपी में शामिल

बता दें कि सेना बड़े स्तर पर पैदल सेना का आधुनिकीकरण अभियान चला रही है, जिसके तहत पुराने और अप्रचलित हथियारों की जगह सैनिकों के लिए हल्की मशीन गन (Light Machine Gun), युद्धक कार्बाइन (Carbine) और असॉल्ट राइफल (Assault Rifle) की खरीद की जा रही है. वर्ष 2017 के अक्टूबर में सेना ने करीब सात लाख राइफल, 44,000 हल्की मशीन गन और लगभग 44,600 कार्बाइन खरीद की प्रक्रिया शुरू की थी. वहीं चीन और पाकिस्तान सीमा पर बढ़ती सुरक्षा चुनौतियों के बीच भारत विभिन्न हथियारों की खरीद पर तेजी से काम कर रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here