क्या वाक़ई एसिड अटैक की घटनाओं में कमी आई है? NCRB के आंकड़ों से चौंकाने वाला खुलासा

0
78
Acid Attack Data
Acid Attack Data

Acid Attack Data: एसिड अटैक…जो किसी की भी पूरी जिंदगी बदल देता है। इस अटैक के बाद न सिर्फ वो इंसान बल्कि उसका पूरा परिवार बिखर जाता है। कहने के लिए तो एसिड फेंकने वालों के निशाने पर सिर्फ महिलाएं रहती हैं, लेकिन पुरुषों पर भी एसिड अटैक की घटनाओं में पिछले कुछ समय में इजाफा देखा गया है।

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018 से 2020 तक देश में महिलाओं पर एसिड अटैक के 386  मामले दर्ज किए गए थे। इन मामलों में कुल 62 आरोपी दोषी पाए गए। ये जानकारी देश के गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने संसद में दी। ये रिकॉर्ड चौंकाने वाला है, लेकिन बेचैनी वहां बढ़ती जब हमे पता चलता है 300 से ज्यादा लोगों को निशाना बनाने वाले 62 लोगों ने एक से ज्यादा लोगों की जिंदगियां बर्बाद करने की हिम्मत दिखाई।

इन आंकड़ों से एक बात ये भी पता चलती है कि भले ही देश में एसिड बैन करने के लिए लाख कोशिशें हो रही हैं लेकिन इसके बाद भी हर साल एसिड अटैक के करीब 100 से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं।

क्या है साल दर साल का आंकड़ा

महिलाओं पर एसिड अटैक (Acid Attack Data) के आंकड़ों पर अगर सालाना तौर पर गौर करें तो 2018 में 131,  2019 में 150  और 2020 में 105 मामले दर्ज किए गए। इसके उलट साल 2018 में 28, 2019 में 16 और 2020 में कुल 18 लोगों को ऐसे मामलों में दोषी ठहराया गया। यानी साल 2018 से 2020 तक सामने आए 386 मामलों में केवल 62 लोग ही मुजरिम करार दिए गए।

Poisons की श्रेणी में आता है एसिड

गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा ने संसद में बताया कि गृह मंत्रालय (MHA) ने संबंधित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एसिड की बिक्री को विनियमित और अधिसूचित करने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में मॉडल ज़हर नियम (Model Poisons Rules) जारी किया है.

केंद्र के पास नहीं है बिक्री का डेटा

ज़हर अधिनियम 1919 के अनुसार, राज्य/केंद्र शासित प्रदेश अपने ज़हर संबंधी नियमों के माध्यम से थोक और खुदरा बिक्री सहित एसिड और संक्षारक रसायनों के कब्जे और बिक्री को विनियमित करते हैं. गृह राज्य मंत्री अजय  कुमार मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि एसिड और संक्षारक रसायनों की बिक्री का डेटा केंद्रीय रूप से नहीं रखा जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here