GST काउंसिल का बड़ा निर्णय, जानिए क्या है मुआवजे का गणित

कम्पेनसेशन सेस को जून 2022 से भी आगे बढ़ाया जाएगा। राज्यों को नुकसान से बचाने के लिए यह निर्णय लिया गया है।

0
150
GST Council 2022
कम्पेनसेशन सेस को जून 2022 से भी आगे बढ़ाया जाएगा। राज्यों को नुकसान से बचाने के लिए यह निर्णय लिया गया है।

New Delhi: GST काउंसिल को लेकर आज हुई बैठक में अहम निर्णय लिया गया है। जानकारी के मुताबिक यह तय हुआ है कि लग्जरी और कई अन्य की वस्तुओं (GST Council 2022) पर लगने वाले कम्पेनसेशन सेस को जून 2022 से भी आगे बढ़ाया जाएगा। राज्यों को नुकसान से बचाने के लिए यह निर्णय (GST Council 2022) लिया गया है। 

दरअसल मुआवजे के लिए केंद्र सरकार के विकल्प को सिर्फ 20 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश ने ही शुरु किया है। कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के शासन (GST Council 2022) वाले ज्यादातर राज्यों ने केंद्र की पेशकश को ठुकरा दिया है। केंद्र ने आश्वासन दिया था कि इस उधारी को चुकाने के लिए लग्जरी और कई अन्य तरह की वस्तुओं पर लगने वाले कम्पेनसेशन सेस (GST Council 2022) को 2022 से भी आगे बढ़ा दिया जाएगा। नियम के अनुसार यह जीएसटी लागू होने के बाद सिर्फ पांच साल तक लगना था। 

सोने के भाव में गिरावट, जानें आज का रेट

बता दें राज्य करीब 2.35 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी (GST Council 2022) का बकाया मुआवजा देने की केंद्र सरकार से मांग कर रहे हैं। इसके बदले में केंद्र ने उन्हें उधार लेने के दो तरीके दिये हैं। लेकिन केंद्र की इस पेशकश (GST Council 2022) को लेकर राज्य बंटे हुए हैं। यानी कुछ राज्य इस नियम के हिसाब से नही चल रहे। 

कर्जदारों को सरकार ने दी राहत, नहीं देना होगा लोन के ब्याज पर ब्याज

राज्यों का करीब 2.35 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी मुआवजा बकाया है, लेकिन केंद्र सरकार का गणित यह है ​कि इसमें से करीब 97,000 करोड़ रुपये का नुकसान ही जीएसटी लागू (GST Council 2022) होने की वजह से हुआ है, बाकी करीब 1.38 लाख करोड़ रुपये का राजस्व नुकसान कोरोना महामारी और लॉकडाउन की कारण हुआ है। कहा जा रहा है कि अगर इस मसले पर वोटिंग हुई तो काफी कुछ इस पर निर्भर करेगा कि ओडिशा और आंध्र प्रदेश जैसे गैर बीजेपी शासित राज्य क्या रुख अपनाते हैं। नियम के मुताबिक किसी भी तरह के प्रस्ताव को पास कराने के लिए कम से कम 20 राज्यों की अनुमति होना जरुरी हैं। 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें और Twitter पर फॉलो करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here