ISRO ने सफलतापूर्वक लॉन्च किया GSAT-30, इंटरनेट स्पीड में आएगी तेजी

इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन(ISRO) ने शुक्रवार को संचार उपग्रह GSAT -30 को सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया है। जीसैट-30 को यूरोपियन हैवी रॉकेट एरियन-5 से फ्रांस के फ्रेंच गुएना स्थित कोरोउ द्वीप से शुक्रवार तड़के 2.35 मिनट पर छोड़ा गया। साल 2020 में इसरो का ये पहला मिशन है।

0
722

नई दिल्ली: इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन(ISRO) ने शुक्रवार को संचार उपग्रह GSAT -30 को सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया है। जीसैट-30 को यूरोपियन हैवी रॉकेट एरियन-5 से फ्रांस के फ्रेंच गुएना स्थित कोरोउ द्वीप से शुक्रवार तड़के 2.35 मिनट पर छोड़ा गया। साल 2020 में इसरो का ये पहला मिशन है।

जानकारी के मुताबिक संचार उपग्रह GSAT-30 सैटेलाइट INSAT-4A की जगह काम करेगा। इंटरनेट टैक्नोलॉजी में तेजी के साथ हो रहे बदलाव की वजह से एक ताकतवर सैटेलाइट की जरूरत थी। इसी जरूरत को पूरा करने के लिए GSAT-30 को लॉन्च किया गया है।

GSAT-30 से बढ़ेगी इंटरनेट स्पीड
बता दें कि 3100 किलोग्राम वजन वाला सैटेलाइट GSAT-30 15 सालों तक काम करता रहेगा। दो सोलर पैनल और बैटरी वाला ये सैटेलाइट जियो-इलिप्टिकल ऑर्बिट में स्थापित किया गया है। इस सैटेलाइट से संचार सेवाओं में सुधार आएगा और इससे इंटरनेट स्पीड बढ़ेगीय़

GSAT-30 का प्रयोग इन सेवाओं के लिए होगा
इसरो ने बताया कि इंटरनेट की स्पीड बढ़ाने के लिए GSAT-30 को लॉन्च किया गया है। इस सैटेलाइट का इस्तेमाल टेलीविजन अपलिंकिंग, डिजिटल सैटलाइट खबर संग्रहण, वीसैट नेटवर्क, टेलीपोर्ट सेवाएं, DTH सेवाओं के साथ ही जलवायु परिवर्तन को समुझने में भी सहायता मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here