व्यापार को बढ़ावा देने के लिए सरकार का ऐलान, शिशु लोन के ब्याज पर मिलेगी ये छूट

0
572
शिशु लोन

कोरोना संकट में धराशाई हुए उद्योग को खड़ा करने के लिए केंद्र सरकार लगातार कोशिश कर रही है. इसको लेकर सरकार ने छोटे कारोबार को नए तरीके से शुरू करने के लिए शिशु लोन की ब्याज दर पर छूट देने का ऐलान किया है. शिशु लोन स्कीम मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी मुद्रा योजना का है. अगर आपने बैंक से शिशु लोन लिया है और या फिर लेने की सोच रहे हैं तो फिर आपको मोदी सरकार के नए ऐलान का लाभ होगा. शिशु लोन के तहत 50 हजार रुपये तक का कर्ज मिलता है. इसका उद्देश्य छोटे स्तर पर व्यापार करने वालों की सहायता करने का है.

बता दें कि गुरुवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया कि मुद्रा शिशु लोन पर ब्याज में दो फीसदी छूट दी जाएगी. ये छूट अगले 12 महीने तक होगी. इसका असर ये होगा कि लोन लेने वालों के 1500 करोड़ बचेंगे, जबकि ये पैसा सरकार भरेगी. फिलहाल, शिशु लोन पर 10 से 11 फीसदी सालाना ब्याज दर है. जिसपर अब दो फीसदी की छूट मिलेगी.

सरकार के अनुसार, इस स्कीम का लाभ करीब 3 करोड़ लोगों को मिलने जा रहा है. शिशु लोन लेने वालों को 12 महीने तक सरकार ब्याज में 2 फीसदी तक छूट देगी. मुद्रा योजना के तहत सबसे निचली ऋण श्रेणी शिशु योजना की है.

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत देश के युवाओं को अपना कारोबार शुरू करने के लिए बिना गारंटी के बैंकों से लोन उपलब्ध कराया जाता है. मुद्रा योजना 8 अप्रैल 2015 को शुरू की गई थी. मुद्रा योजना के तहत 50 हजार से 10 लाख तक का लोन मिल जाता है. मुद्रा योजना में 3 तरह के लोन दिए जाते हैं. 50 हजार तक के लोन शिशु योजना के तहत, 50 हजार से 5 लाख तक के लोन किशोर योजना के तहत और 5 लाख से 10 लाख तक के लोन तरुण योजना के तहत दिए जाते हैं.

सरकार की मुद्रा योजना का उद्देश्य है कि देश के युवा उद्यमी बने, इससे रोजगार भी उपलब्ध हो सके. मुद्रा योजना में बिना गारंटी के लोन मिलता है. लोन के लिए प्रोसेसिंग चार्ज का प्रावधान भी नहीं है. देश का नागरिक जो अपना कारोबार शुरू करना चाहता है, योजना के तहत आवेदन कर सकता है. योजना की डिटेल के लिए http://www.mudra.org.in/ लिंक पर विजिट कर सकते हैं. भारत के लगभग सभी बैंकों को सरकार ने इसके लिए अधिकृत किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here