जामिया इलाके में मार्च के दौरान सिरफिरे युवक ने की फायरिंग, छात्र घायल

0
689
फायरिंग करता युवक।

नई दिल्ली। जामिया क्षेत्र में सीएए और एनआरसी के विरोध में निकाले जा रहे मार्च के दौरान उस समय हड़कंप मच गया, जब एक सिरफिरे युवक ने अचानक फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में जामिया यूनिवर्सिटी में पत्रकारिता विभाग का एक छात्र घायल हो गया। फिलहाल, पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। लेकिन इस पूरे मामले में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं कि कैसे एक युवक पुलिस की मौजूदगी में खुलेआम तमंचा लहराता है और पुलिस उसे रोकने की कोशिश तक नहीं करती?

बता दें कि गुरूवार को सीएए और एनआरसी के विरोध में जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी से राजघाट तक मार्च निकल रहा था, तभी तमंचा लहराते हुए एक सिरफिरा युवक भीड़ से निकला और अचनाक ही मार्च कर रहे छात्रों पर फायरिंग कर दी. फायरिंग में गोली एक छात्र के हाथ में लगी, जिसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। घायल छात्र शादाब जामिया यूनिवर्सिटी के पत्रकारिता विभाग का छात्र बताया जा रहा है।

फायरिंग के तुरंत बाद पुलिस ने सिरफिरे युवक को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की पूछताछ में आरोपी युवक अपना नाम गोपाल बता रहा है और खुद को रामभक्त भी बता रहा है। फिलहाल, पुलिस आरोपी युवक के बारे में अधिक जानकारी जुटाने की कोशिश कर रही है। साउथ ईस्ट दिल्ली के डीसीपी चिन्मय बिस्वाल का कहना है कि पुलिस वीडियो के आधार पर मामले की जांच कर रही है। इसके साथ ही पुलिस आरोपी युवक से पूछताछ कर रही है।

वहीं, इस मामले में कई वीडियो भी सामने आए हैं, जिसमें युवक खुलेआम तमंचा लहरा रहा है और पुलिसकर्मी हाथ बांधे खड़े हैं। आरोपी तमंचा लहराते हुए मार्च कर रहे लोगों की ओर बढ़ रहा है और पुलिस चुपचाप खड़ी देख रही है. बता दें कि इस मार्च को देखते हुए जामिया इलाके में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी। ऐसे में ये सवाल उठना लाजमी है कि इतनी तादात में पुलिस बल की तैनाती के बाद भी फायरिंग की घटना कैसे हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here