Dhanteras 2022: धनतेरस पर क्या खरीदें और क्या ना खरीदें, झाडू खरीदना क्यों माना जाता है शुभ ?

0
128

Dhanteras 2022 Shopping Puja Timing: आज देशभर में धनतेरस (Dhanteras Shopping) का त्योहार मनाया जा रहा है। धनतेरस के दिन सोने, चांदी के आभूषण और धातु के बर्तन खरीदने की परंपरा है। कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि 22 अक्टूबर 2022 को शाम 6 बजकर 02 मिनट से शुरू हो रही है।

त्रयोदशी का समापन

23 अक्टूबर 2022 को त्रयोदशी तिथि शाम 06 बजकर 03 मिनट पर खत्म होगी। आज त्रिपुष्कर योग बन है। धनतेरस की शाम को भगवान धन्वंतरि (Dhanvantri Worship on Dhanteras) और दीपदान भी किया जाएगा। जिससे भगवान धनवन्तरि की कृपा बरसती है।

धनतेरस पर यह खरीदें ( Do This Shopping on Dhanteras)

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार, धनतेरस पर सोना-चांदी और पीतल के बर्तन खरीदने से जीवन में कभी सुख और धन-धान्य की कोई कमी नहीं रहती। इस दिन बाजार में भारी भीड़ उमड़ी रहती है। इसके अलावा लोग अन्य घरेलू सामान जैसे- झाडू और अन्य सामान भी खरीदा जाता है।

भय दूर करने के उपाय

अगर आप किसी भी प्रकार के भय से चिंतित है और कोई चीज आपको बहुत परेशान कर रही है तो आप धनतेरस पर हनुमान जी की पूजा करे और हनुमान जी के आगे चमेली के तेल का दीपक अवश्य जलाएं। ग्यारह पीपल के पत्तों पर श्रीराम लिखकर उसकी माला बनाकर चढ़ाए और वही बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करे। जिससे आपको जरूर लाभ मिलेगा।

भगवान कुबेर की करें पूजा (Worship of God Kuber)

धनतेरस के दिन भगवान कुबेर की पूजा की जाती है और उनकी दिशा उत्तर मानी गई है। इसलिए आज के दिन नकदी उत्तर दिशा में ही रखें, ऐसा करने से आपको धनलाभ होगा। आज शाम को पूजा और दीपदान के समय यह कार्य करना चाहिए।

झाडू खरीदने का महत्व (Importance of Broom Shopping)

आज शाम शनिवार को 22 अक्तूबर को 6 बजे त्रयोदशी तिथि लग जाएगी और फिर प्रदोष काल मुहूर्त में पूजा और खरीदारी हो सकेगी। वहीं, उदया तिथि के आधार पर 23 अक्तूबर 2022 धनतेरस मनाया जाएगा। धनतेरस पर सोने-चांदी के सिक्के और आभूषणों की खरीदारी की जाती है।

धनतेरस पर मां लक्ष्मी की सबसे प्रिय चीज झाड़ू भी खरीदी जाती है। माता लक्ष्मी को साफ-सफाई और सुंदरता बहुत ही प्रिय होती है। जहां साफ-सफाई और सजावट होती है वहां पर मां लक्ष्मी का वास होता है। इसलिए धनतेरस पर झाड़ू खरीदी जाती है। वास्तुशास्त्र में झाड़ू को लक्ष्मीजी का प्रतीक माना गया है। इसलिए यदि झाड़ू को ठीक ढंग से न रखा जाए तो इसका दुष्प्रभाव हमारे जीवन पर पड़ता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here