पुलिस-वकील विवाद: दिल्ली HC ने खारिज की गृहमंत्रालय की अर्जी

राजधानी दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच हुआ घमासान अभी भी जारी है। मंगलवार को पुलिसकर्मियों ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर हाथ में काली पट्टी बांधकर वकीलों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। हालांकि, दिल्ली पुलिस फिर से काम पर लौट आई है, लेकिन अब ये मामला हाईकोर्ट में पहुंच गया है और आज इस मामले की दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है।

0
2678

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच हुआ घमासान अभी भी जारी है। बुधवार को इस मामले को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई, जिसमें हाईकोर्ट ने गृहमंत्रालय की अपील को खारिज कर दिया है।

दिल्ली HC ने खारिज की गृहमंत्रालय की अर्जी

दिल्ली हाई कोर्ट ने बुधवार को सुनवाई करते हुए गृह मंत्रालय की अर्जी खारिज कर दी है। दरअसल, गृह मंत्रालय ने वकीलों और पुलिस के बीच हुए घमासान को लेकर हाई कोर्ट के आदेश पर स्पष्टता मांगी थी, लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने गृहमंत्रालय की इस अर्जी को खारिज कर दिया है।

बता दें कि पुलिसकर्मियों के प्रदर्शन के बाद केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट से इस मामले की सुनवाई की मांग की थी। इसके बाद अदालत ने बार काउंसिल ऑफ इंडिया और अन्य काउंसिल को नोटिस जारी किया था।

ये भी पढ़ें- दिल्ली पुलिस और वकीलों का विवाद, गृह मंत्रालय की मांग पर कोर्ट ने बार काउंसिल को भेजा नोटिस

गौरतलब है कि शनिवार को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पार्किंग को लेकर पुलिस और वकील आमने-सामने आ गए। दोनों पक्षों में हिंसक झड़प हुई, जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। इसके बाद पुलिसकर्मियों में आक्रोश बढ़ गया। जिसके बाद मंगलवार को पुलिसकर्मियों ने दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर हाथ में काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन किया और वकीलों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। 10 घंटे तक चला ये धरना प्रदर्शन पुलिस की मांगों को मानने के आश्वासन पर खत्म हुआ।

ये थी पुलिस की मांग

प्रदर्शन कर रहे दिल्ली पुलिस के जवानों ने मांग की कि उनके साथियों पर हुए केस को वापस लिया जाए इसके साथ ही वकीलों पर कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही पुलिस ने तीस हजारी कोर्ट में घायल हुए जवानों को 25 हजार देने की बात कही। करीब 10 घंटे बाद मांगों को मानने के आश्वासन के बाद पुलिस ने अपना धरना समाप्त किया और वापस ड्यूटी पर लौट आई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here