Currency Printing Rate: 500 से ज्यादा 200 क नोट छापने में होते हैं पैसे खर्च

0
86
Currency Printing Rate

Currency Printing Rate: नोटबंदी के बाद भारतीय करेंसी में काफी बदलाव आया है। पहले देश में 1000 के नोट छपा करते थे जो कि नोटबंदी के बाद से बंद हो गए थे। अब देश में 2000 का नोट सबसे बड़ा है। सबसे छोटे नोट 10 रुपये का है। ये बात तो सभी जानत हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि नोटों की छपाई के लिए RBI को कितना भुगतान करना पड़ता है।

दरअसल, RBI 2000 के नोट से ज्यादा खर्च 500 के नोट पर करता है और इसी तरह 20 रुपये से ज्यादा लागत 10 रूपये की नोट की छपाई में लगती है।

इतनी है इन नोटों की छपाई की लागत

नोटों की छपाई (Currency Printing Rate) के ये आंकड़ें आरटीआई के सामने आए हैं। आरबीआई के लिए नोटों की छपाई करने वाली कंपनी भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण लिमिटेड (BRBNML) ने आरटीआई को छपाई की लागत की जानकारी दी है। आंकड़ों के अनुसार, फाइनेंशियल ईयर 2021-22 (FY22) में आरबीआई को 10 रुपये के हजार नोट की छपाई के लिए 960 रुपये खर्च करने पड़े, जबकि 20 रुपये के हजार नोट 950 रुपये खर्च हुए। जबकि 20 रुपये के हजार नोट छापने में 950 रुपये ही लगे। इसी तरह 500 रुपये के हजार नोट छापने में 2,290 रुपये की लागत आई, जबकि 200 रुपये के इतने ही नोटों की छपाई के 2370 खर्चे हुए।

महंगी है इन नोटों की छपाई

आंकड़ों के अनुसार, आरबीआई को 50 रुपये के नोटों की छपाई के लिए 1130 रुपये की लागत लगी। इसी तरह पिछले वित्त वर्ष में 1000 रुपये के 1000 नोट छापने के लिए 1770 की लागत लगी। इन आंकड़ों से देखा जाए तो 20 रुपये के नोट से ज्यादा 10 रुपये के नोट की छपाई में लागत लगी। वहीं 500 रुपये से ज्यादा 200 रुपये के नोट की छपाई में ज्यादा पैसे खर्चे हुए।

2000 रुपये के नोट के आंकड़ें इस वित्त वर्ष के उपलब्ध नहीं हैं।

यहां छपते हैं RBI के नोट

आपकों बता दें कि नोटों की छपाई का काम चार प्रेस में होता है। इनमें से दो प्रेस आरबीआई की सब्सिडियरी BRBNML के हैं, जो मैसुरू (Mysuru) और सालबोनी (Salboni) में हैं। वहीं दो अन्य प्रेस भारत सरकार के हैं, जो नासिक शहर (Nasik) और देवास (Dewas) में हैं। ये दोनों प्रेस सिक्योरिटी प्रिंटिंग एंड मिंटिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड यानी (SPMCIL) के हैं।

वहीं सिक्कों की ढलाई के सेंटर्स मुंबई (Mumbai), हैदराबाद (Hyderabad), कोलकाता (Kolkata) और नोएडा (Noida) में हैं। ये चारों सेंटर सिक्योरिटी प्रिंटिंग एंड मिंटिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SPMCIL) के हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here