क्या सर्दियों में कोरोना की लहर होगी ज्यादा? जानिए विश्लेषकों की राय

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) प्रमाणों के अभाव में भले ही यह बात कह चुका है कि सर्दी का मौसम कोराना वायरस के लिए बेअसर है

0
217
Covid19 Update
देश में कोरोना के 63371 नए मामले, कुल आंकड़ा 73 लाख के पार

New Delhi: पूरी दुनिया में मौसम का मिज़ाज बदल रहा है। ऐसे में कोरोना (Covid-19 Alert) पहले से ज्यादा बढ़ सकता है। राज्यों में भी ठंड का मौसम जल्द ही आने वाला है। मौसम में बदलाव की वजह से कोल्ड-फ्लू या सर्दी-जुकाम आम बात हो जाती है। हर साल की सर्दी से ज्यादा इस बार की सर्दी दुनिया के कई वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ा रही है। आशंका यह जताई जा रही है कि ठंडी हवाओं (Covid-19 Alert) के साथ बदलते मौसम की वजह से कोरोना वायरस तेजी से फैल सकता है। कई वैज्ञानिकों को आशंका है कि सर्दी में दुनिया को कोरोना वायरस की एक और लहर का सामना करना पड़ सकता है, जो पहले से ज्यादा खतरनाक हो सकती है। 

कोरोना वायरस के शुरुआती दौर में इसके गर्मी के मौसम (Covid-19 Alert) में असर कम होने या खत्म होने के तर्क दिए जा रहे थे, लेकिन दिनों-दिन वायरस संक्रमण बढ़ता ही रहा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) प्रमाणों के अभाव में भले ही यह बात कह चुका है कि सर्दी का मौसम कोराना वायरस के लिए बेअसर है, लेकिन कोरोना पर घटते तापमान को लेकर अध्ययन जारी है। वहीं, सर्दी के मौसम में कोरोना के असर को लेकर वैज्ञानिकों की चिंता भी जायज है। 

देश में कोरोना का रिकवरी रेट 85.25 प्रतिशत, 58 लाख से ज्यादा मरीज हुए ठीक

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस गर्मियों (Corona Virus) में भी ज्यादा सक्रिय रहा। दुनिया के कई देशों में ठंड के मौसम में इन्फ्लूएंजा के मामले सामान्य रहते हैं, जबकि भारत और ऐसे ही सामान्य जलवायु वाले क्षेत्रों में सर्दियों का मौसम कुछ ही महीनों का रहता है। बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, कोलंबिया यूनिवर्सिटी के इनवॉयरमेंटल हेल्थ साइंसेज डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर मिकेला मार्टिनेज का मानना है कि संक्रामक रोगों के ग्राफ में सालभर उतार-चढ़ाव आता रहता है।   

कोरोना के खिलाफ ‘जन आंदोलन’ की शुरुआत करेंगे पीएम मोदी

किसी वायरस में आने वाले बदलाव पर वैज्ञानिकों का कहना है कि इंसानों में होने वाले हर संक्रामक रोग का एक खास मौसम होता है। जैसे सर्दियों में फ्लू और कॉमन-कोल्ड (Corona Virus) होता है, उसी तरह गर्मियों में पीलिया और वसंत के मौसम में मीजल्स और चिकन-पॉक्स फैलता है। सार्स कोव-2 वायरस ने भी अपने कोरोना परिवार के अन्य वायरस की तरह बर्ताव किया तो संभावना है कि इसका संक्रमण भी सर्दी में बढ़ेगा। लेकिन इसका यह मतलब नहीं की सर्दी-जुखाम की वजह से कोरोना के लक्षण हो या कोरोना की चपेट में आ गए हो। 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here