लॉकडाउन में लोगों को बड़ी राहत, अब इन शर्तों के साथ खुलेंगी जरूरी- गैर जरूरी दुकानें

0
618
दुकानों को शर्तों के साथ खोलने की इजाजत

कोरोना महामारी के संक्रमण से देश को बचाने के लिए  3 मई तक लॉकडाउन लागू है, लेकिन अब सरकार ने लॉकडाउन के नियमों में थोड़ा बदलाव किया है. बता दें कि गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन के बीच देश में आज से तमाम दुकानों को शर्तों के साथ खोलने की इजाजत दी है.

जाहिर है कि गृह मंत्रालय के इस फैसले से करीब महीने से अपने घरों मे बंद जनता को काफी राहत मिलेगी. लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण में किसी तरह कमी नजर नहीं आ रही है.  यानी कि महामारी से निपटने की चुनौती अब भी कम नहीं हुई है. हालांकि, सरकार ने लॉकडाउन के बीच दुकानों को खोलने के लिए कुछ शर्तें भी रखी हैं.

उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन के ऐलान के साथ ही सभी प्रकार के प्रतिष्ठान बंद कर दिए गए थे. सरकार ने इस दौरान जरूरी सामान जैसे सब्जी, फल, दवाई और किराना की दुकानों को ही खोलने की इजाजत दी थी. लेकिन अब केंद्र सरकार ने अपने फैसले में थोड़ा बदलाव किया है. अब जरूरी चीजों के साथ ही गैर-जरूरी चीजों की दुकानें खोलने की भी इजाजत दे दी गई है.

PHOTO
लॉकडाउन में दुकानों को शर्तों के साथ खोलने की इजाजत

 

 

 

गृह मंत्रालय के आदेशानुसार, केंद्र सरकार ने आवासीय कॉलोनियों के निकट बनी दुकानों और स्टैंड-अलोन दुकानों को खोलने की इजाजत दी है. जो नगरपालिका और नगर निगमों की सीमा के अंदर है. गृह मंत्रालय ने अपने आदेश में दुकानों को खोलने के लिए कुछ शर्तें लागू की हैं. जिनमें सिर्फ 50 फीसदी स्टाफ मास्क के साथ ही काम कर सकेगा.

दुकानों को खोलने के लिए शर्तें-

बता दें कि गृह मंत्रालय के आदेश के  वही दुकानें खुल सकेगीं जो संबंधित राज्य/केंद्र शासित प्रदेशों के स्थापना अधिनियम के तहत पंजीकृत है.  दुकानों में सिर्फ आधा स्टाफ ही काम कर सकेगा. सोशल डिस्टेंसिंग के साथ स्टाफ को मास्क लगाना अनिवार्य होगा.

मतलब कोरोना वायरस से बचाव के लिये जो एहतियात जरूरी हैं, उन्हें शर्तों के तौर पर लागू किया गया है. गौरतलब है कि गृह मंत्रालय का नया आदेश उन इलाकों में लागू नहीं होगा जिन्हें कोरोना हॉटस्पॉट के तौर पर चिन्हित किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here