एक्सपर्ट का दावा – कोरोना मरीजों की जान बचाएगी ये दवा

ट्रायल के दौरान पता चला कि वेंटिलेटर पर रहने वाले मरीजों को ये दवा दिए जाने पर मौत का खतरा एक तिहाई घट गया.जबकि ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले मरीजों को इस दवा से अधिक फायदा होता है.

0
885
Covid 19 Vaccination
देश में इस दिन से लगेगी कोरोना की वैक्सीन, जानिए इसके बारे में सब कुछ

Delhi : ब्रिटेन के एक्सपर्ट ने दावा किया है कि कोरोना वायरस (Corona Virus) से लड़ने में मददगार दवा (Corona Vaccine) मिल गई है। इसे कोरोना मरीजों पर प्रयोग भी किया गया है और इसमें लाभदायक असर भी देखने को मिला है। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, यह एक पुरानी और सस्ती दवा है जो कोरोना वायरस से गंभीर रूप से बीमार काफी लोगों की जान बचाने में सफल हुई है. इस दवा का नाम है- Dexamethasone.

गिलोय एक-फायदें अनेक, कोरोना को दूर रखने में भी है फायदेमंद, जानिए कैसे ?

एक्सपर्ट के अनुसार Dexamethasone दवा (Corona Vaccine) की हल्की खुराक से ही कोरोना (Corona Virus) से लड़ने में मदद मिलती है. ट्रायल के दौरान पता चला कि वेंटिलेटर पर रहने वाले मरीजों को ये दवा दिए जाने पर मौत का खतरा एक तिहाई घट गया.जबकि ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले मरीजों को इस दवा से अधिक फायदा होता है. जिन मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई की जरूरत होती है, उनमें इस दवा के इस्तेमाल से मौत का खतरा 1/5 घट जाता है.

दुनिया के सबसे बड़े ट्रायल में शामिल Dexamethasone दवा ये दवा कोरोना मरीजों के स्वास्थ के लिए लाभकारी है. रिसर्चर्स का अनुमान है कि अगर ब्रिटेन में ये दवा पहले से उपलब्ध होती तो कोरोना से 5000 लोगों की जान बचाई जा सकती थी, क्योंकि ये दवा सस्ती भी है. एक ग्रुप में 20 कोरोना वायरस मरीजों को Dexamethasone दवा दी गई थी. इनमें से 19 को हॉस्पिटल आने की जरूरत नहीं पड़ी और वे ठीक हो गए. वहीं, हॉस्पिटल में भर्ती हाई रिस्क मरीजों को भी इससे लाभ हुआ.

पिछले 24 घंटे में कोरोना के 10,667 नए मामले

इस दवा का इस्तेमाल पहले से कई और बीमारियों के दौरान इन्फ्लैमेशन घटाने के लिए किया जाता है. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की टीम ने ट्रायल के दौरान हॉस्पिटल में भर्ती करीब 2000 मरीजों को ये दवा दी थी. इन मरीजों की तुलना अन्य 4000 मरीजों से की गई जिन्हें ये दवा नहीं दी गई थी.

वेंटिलेटर वाले मरीजों पर भी इस दवा का अच्छा असर हुआ. उनकी मौत का खतरा 40 फीसदी से घटकर 28 फीसदी हो गया. ऑक्सीजन सपोर्ट पर जो मरीज थे, उनमें मौत का खतरा 25 फीसदी से 20 फीसदी हो गया. प्रमुख जांचकर्ता प्रो. पीटर हॉर्बी ने कहा- अब तक सिर्फ यही वो दवा है जो मौत की दर घटाने में कामयाब हुई है. यह एक बड़ी सफलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here