प्याज की कमी पर बोलीं बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना- हमने तो खाना ही छोड़ दिया

प्याज की लगातार बढ़ रही कीमतों से सिर्फ भारत देश ही नहीं बल्कि पड़ोसी मुल्क भी परेशान हैं। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना इन दिनों भारत दौरे पर हैं। उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि जब से भारत ने बिना बताए प्याज के निर्यात पर रोक लगाई है उन्होंने प्याज खाना छोड़ दिया है।

0
763
प्याज के निर्यात पर रोक लगाने पर छलका हसीना का दर्द, बोलीं हमने प्याज खाना छोड़ दिया

नई दिल्ली। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने प्याज के निर्यात पर रोक लगाने पर अपनी बात कही। भारत दौरे पर आईं शेख हसीना ने कहा कि भारत ने बिना बताए प्याज के निर्यात पर रोक लगा दी, पहले बता देना चाहिए था। भारत के अचानक से प्याज निर्यात पर रोक लगा देने से हमें परेशानी का सामना करना पड़ा।

दरअसल प्याज की लगातार बढ़ती कीमतों को ध्यान में रखते हुए भारत ने इसके निर्यात पर रोक लगा दी थी। बांग्लादेश की पीएम ने कहा कि आपने प्याज के निर्यात पर रोक क्यों लगा दी, हमने तो प्याज खाना ही छोड़ दिया है। उन्होंने अपनी बात कहते हुए बोला कि आपने प्याज बंद किया तो मैंने अपने कुक को बोल दिया कि बगैर प्याज के ही खाना बनाओ। आगे से भारत ऐसा कोई कदम उठाता है तो कृपया करके हमें जानकारी दे दे, जिससे कि हम अपनी व्यवस्था कर लें।

ये भी पढ़ें: केंद्र सरकार ने प्याज के एक्सपोर्ट पर लगाई रोक, बढ़ती कीमतों को लेकर उठाया कदम

गौरतलब है कि देश में प्याज की कमी और इसकी आसमान छूती कीमतों को देखते हुए सरकार ने 29 सितंबर से ही प्याज के निर्यात पर रोक लगा रखी है। भारत प्याज का सबसे बड़ा निर्यातक है। यहां से 60 से ज्यादा देशों में प्याज का निर्यात किया जाता है। ऐसे में निर्यात बंद होने से अन्य देशों को भी काफी परेशानी हो रही है।

बता दें कि बांग्लादेश की राजधानी ढाका में प्याज की कीमत प्रति 100 किग्रा 10 हजार रुपये से ज्यादा पहुंच चुकी है। इस देश को अब म्यांमार, तुर्की और चीन से आयात बढ़ाने पर जोर देना पड़ रहा है। संकट के इस समय में बांग्लादेश ने सब्सिडी देकर प्याज बेचना शुरू कर दिया है।

कुछ ऐसे ही हालात मलयेशिया के भी हैं, जो भारत से प्याज खरीदने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश है।

ये भी पढ़ें: यहां सरकार 22 रुपये किलो बेच रही है प्याज, लगी लंबी कतार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here