अगले 8 दिनों मेें अयोध्या समेत इन बड़े मामलों में आने है निर्णय, CJI सुनाएंगे फैसला

भारत के अगले चीफ जस्टिस की घोषणा भी हो चुकी है। जस्टिस शरद अरविंद बोबडे, भारत के अगले मुख्य न्यायधीश होगें। लेकिन इससे पहले अपने बचे हुए कार्यकाल में चीफ जस्टिस रंजन गगोई को राम जन्म भूमि के अलावा कुछ चर्चित और बड़े मामलों में ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण फैसलें सुनाने है।

0
1080
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नंवबर को होंगे रिटायर

नई दिल्ली। 17 नंवबर को भारत के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई रिटायर होने वाले है। भारत के अगले चीफ जस्टिस की घोषणा भी हो चुकी है। जस्टिस शरद अरविंद बोबडे, भारत के अगले मुख्य न्यायधीश होगें। लेकिन इससे पहले अपने बचे हुए कार्यकाल में चीफ जस्टिस रंजन गगोई को राम जन्म भूमि के अलावा कुछ चर्चित और बड़े मामलों में ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण फैसलें सुनाने है। आइये जानते है रिटायरमेंट से पहले मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को राम जन्मभूमि के अलावा और किन महत्वपूर्ण मामलों में फैसलें सुनाने है।

अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद- राजनीतिक रूप से बेहद संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के फैसले पर हर किसी की नजर टिकी हुई हैं। CJI की अध्यक्षता वाली 5 न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने इस मामले में 40 दिवसीय सुनवाई  के बाद 16 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित रखा था। इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 2010 के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 14 अपील दायर की गई थी।  2010 में इलाहाबाद ने तीन पक्षों के बीच 2.77 एकड़ विवादित भूमि का समान रूप से विभाजन किया था – सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला। इस मामलें पर फैसलें की चर्चा जोरों पर है।

ये भी पढ़े: अयोध्या विवाद पर फैसले से पहले प्रशासन का बड़ा कदम, पोस्टर और मैसेज पर लगाई रोक

राहुल गांधी का ‘चौकीदार चोर है’ का मामला भी शामिल –राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चौकीदार चोर है कहकर संबोधित किया था, इस मामले में भी कोर्ट में केस दायर किया गया था। जिस पर फैसला सुनाया जाना है। इस साल मई में,राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट में बिना शर्त माफी मांगी थी और भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी की याचिका पर उनके खिलाफ आपराधिक अवमानना कार्यवाही को बंद करने की मांग की थी। हालांकि, CJI ने फैसले को बरकरार रखते हुए उसे बंद नहीं करने का फैसला किया है।

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं का प्रवेश- चीफ जस्टिस की अध्यक्षता में एक और पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ, शीर्ष अदालत के फैसले की समीक्षा की मांग पर अपना फैसला सुनाएगी, जिसमें महिलाओं को केरल के सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। शीर्ष अदालत ने 6 फरवरी को 65 याचिकाओं पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, जिसमें अदालत के 28 सितंबर, 2018 के फैसले की समीक्षा करने की अनुमति देना शामिल था। जिसमें सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति थी। याचिकाकर्ताओं ने तर्क दिया था कि चूंकि सबरीमाला में भगवान अयप्पा एक ब्रह्मचारी थे इसलिए अदालत को 10-50 साल के मासिक धर्म में महिलाओं के प्रवेश पर रोक की परंपरा में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। पहाड़ी मंदिर इस साल 16 नवंबर को वार्षिक उत्सव के लिए खुलेगा। केरल ने पिछले साल लगभग तीन महीने लंबे वार्षिक तीर्थयात्रा के दौरान उच्च नाटक देखा था, जिसमें 10-50 आयु वर्ग की लगभग एक दर्जन महिलाओं को सबरी माला मंदिर में प्रवेश करने से रोका गया था। शीर्ष अदालत के फैसले के बाद सभी महिलाओं के लिए दरवाजे खोले जाने के बाद श्रद्धालुओं ने विरोध किया।

ये भी पढ़े:तीस हजारी कोर्ट विवाद का असर, कड़कड़डूमा कोर्ट में वकीलों ने पुलिसकर्मी को पीटा

राफेल डील में सरकार को क्लीन चिट- CJI चीफ जस्टिस  की अध्यक्षता वाली तीन-न्यायाधीशों की पीठ के समक्ष एक और हाई-वोल्टेज केस लंबित है। इस पर भी निर्णय दिया जाना है। सुप्रीम कोर्ट के 2018 के फैसले को चुनौती देने वाली समीक्षा याचिकाएं हैं, जो नरेंद्र मोदी सरकार को फ्रांस से 36 राफेल फाइटर जेट की खरीद पर क्लीन चिट दे रही हैं। अदालत ने 10 मई को याचिकाओं पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, जिसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी द्वारा दायर किए गए थे, साथ ही अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने सौदे में कथित भ्रष्टाचार और अनियमितताओं की सीबीआई जांच की मांग की थी।

 CJI कार्यालय RTI अधिनियम के तहत आएगा?- सर्वोच्च न्यायालय के महासचिव और दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय के केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी द्वारा 2010 में दायर अपीलों पर भी फैसले की उम्मीद है कि CJI का कार्यालय RTI अधिनियम के दायरे में आता है। पांच न्यायाधीशों वाली CJI की अगुवाई वाली संविधान पीठ ने 4 अप्रैल को दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाली अपनी रजिस्ट्री द्वारा दायर अपीलों पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, जिसमें कहा गया था कि शीर्ष अदालत और भारत के मुख्य न्यायाधीश का कार्यालय अधिकार के तहत सार्वजनिक प्राधिकरण का गठन करता है।

ये भी पढ़े: तीस हजारी कोर्ट विवाद: SIT करेगी मामले की जांच, कई धाराओं में FIR दर्ज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here