पीएम नरेंद्र मोदी ने की ‘मन की बात’, देश के युवाओं से की ये अपील

अपने इस कार्यक्रम मॆं पीएम ने महात्मा गांधी की 150वीं जंयती का जिक्र करते हुए देशवासियों से स्वच्छता और सिंगल प्लास्टिक यूज अभियान का हिस्सा बनने की अपील की...

0
829
अपने दूसरे कर्यकाल में पीएम मोदी ने चौथी बार मन की बात कार्यक्रम के जरिये देश को सबोंधित किया।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी दौरे से लौटने के बाद रविवार को मन की बात की। अपने दूसरे कर्यकाल में पीएम मोदी ने चौथी बार मन की बात कार्यक्रम के जरिये देश को संबोधित किया।

अपने इस कार्यक्रम में पीएम ने महात्मा गांधी की 150वीं जंयती का जिक्र करते हुए देशवासियों से स्वच्छता और सिंगल प्लास्टिक यूज अभियान का हिस्सा बनने की अपील की, साथ ही साथ 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जंयती पर पूरे देश में होने वाले रन फॉर यूनिटी में भी हिस्सा लेने का आवाह्न किया।

उन्होने कहा की हम बापू की 150वीं जंयती मना रहे है। स्वच्छता के साथ हम सिंगल प्लास्टिक यूज का संकल्प भी ले। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में भारत ने जिस तरह से पूरी दुनिया में उल्लेखनीय काम किया है उससे विश्व की नजरे हमारी ओर है। मुझे यकीन है आप सभी 2 अक्टूबर को सिंगल प्लास्टिक यूज सें मुक्ति के लिए चलाए जा रहे इस देशव्यापी अभियान में हिस्सा लेंगे।

ये भी पढ़े: केंद्र सरकार ने प्याज के एक्सपोर्ट पर लगाई रोक, बढ़ती कीमतों को लेकर उठाया कदम

इसके अलावा प्रधानमंत्री ने देशवासियों को नवरात्रि,दशहरा,दीवाली,भैया-दूज और छठ पूजा समेत सभी त्योहारों की शुभकामनाएं दी। उन्होनें कहा की त्योहारों के दौरान कुछ लोगों के घर खुशियों से भरे होंगे लेकिन हमारे आस-पास ढ़ेर सारे ऐसे लोग है जो इन त्योहारों के दौरान खुशियों से वंचित रह जायेंगे। इसे ‘चिराग तले अंधेरा’ कहते है।

एक ओर कुछ घर रोशनी से जगमगाते है,तो दूसरी ओर कुछ लोगों के घरों में अधेंरा होता है। कुछ घरों में मिठाईयां खराब हो रही होती है, तो वही कुछ घरों में बच्चे मिठाई के लिए तरसते है। इस बार त्योहारों में आप सभी संकल्प लें की इस चिराग तले अंधेरे को हम मिटा सकते है। साथ ही साथ उन्होंने दीवाली पर पटाखे छोड़ने के दौरान दूसरों कों किसी तरह की परेशानी या कोई नुकसान न हो इस बात का ख्याल रखते हुए जगरूकता के साथ त्योहार मनाने की बात कही।

ये भी पढ़े: गर्दन में रस्सी बांधकर युवक को घसीटा, 15 किमी तक खिंची खून की लाइन

कार्यक्रम में आगे प्रधानमंत्री ने युवाओं को संबोधित करते हुए ई-सिगरेट और तंबाकू छोड़ने की अपील की। उन्होने कहा की अधिकांश लोगों को ई-सिगरेट के खतरे और उससे होनें वाले नुक्सान के बारे में जानकारी नही है। देश की युवा पीढ़ी देश का भविष्य है जिनको नशे से बचाने के लिए सरकार ने ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाया है।

इसके अलावा प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में यूएस ओपेन टूर्नामेंट में रनर-अप रहे रूसी टेनिस खिलाड़ी देनिल मेदवेदेव की हौसले की तारीफ की। उन्होंने कहा की इस बार यूएस ओपेन टूर्नामेंट में जीत के जितने चर्चे नहीं थे, उससे कहीं ज्यादा चर्चे मेदवेदेव के भाषण के थे। महज 23 साल के मेदवेदेव की सादगी और परिपक्वता ने हर किसी को प्रभावित किया। जीवन में हार-जीत मायने नहीं रखती। मेदवेदेव के हौसले ने दुनिया का दिल जीत लिया।

ये भी पढ़े: एक बार फिर टक्कर बॉलीवुड और हॉलीवुड के बीच

प्रधानमंत्री ने इस कार्यक्रम में सिस्टर मरियम थ्रेसिया को भी याद किया। लोगों की सेवा के लिए सिस्टर थ्रेसिया ने 50 साल के छोटे से जीवनकाल में मानवता के लिए जो काम किया वो विश्व के लिए मिशाल है। उन्होनें बताया की मरियम थ्रेसिया के महान कार्यों के लिए आने वाले 13 अक्टूबर को पोप फ्रांसिस उन्हें संत घोषित करेंगे। यह सम्मान हर भारतीय के लिए गर्व की बात है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here