पीएम मोदी ने कहा- किसानों की मजबूती से बनेगी भारत की नींव

पीएम मोदी ने किसानों के लिए कहा कि इस बार किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी और किसानों को कई चीजों में राहत मिल सकती हैं।

0
245
69th Maan Ki Baat
पीएम मोदी ने किसानों के लिए कहा कि इस बार किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी और किसानों को कई चीजों में राहत मिल सकती हैं।

New Delhi: पीएम नरेंद्र मोदी ने हर बार की तरह रेडियो कार्यक्रम में अपनी मन की बात (69th Maan Ki Baat) रखी और देश की जनता से रुबरु हुए है। खास बात यह है कि पीएम मोदी ने कामयाब लोगों की बाते सुनी और उनकी पूरी कहानी को इस कार्यक्रम में लेकर आए, ताकि बाकि लोगों का भी प्रोत्साहन बड़े। साथ ही पीएम मोदी ने देश के योद्धाओं के बारे में जिक्र किया और कहा कि देश के युवाओं को कामयाबी पाने के लिए  सुभाष चंद्र की राह पर चलना चाहिए’। 

पीएम मोदी (PM Modi) ने किसानों के लिए कहा कि इस बार किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी और किसानों को कई चीजों में राहत मिल सकती हैं। आखिरी में कोरोना को लेकर कहा कि अपना और अपने परिवार का ख्याल रखे, साथ ही मास्क लगाकर ही घरों से बाहर निकले। इस बात को कहते हुए पीएम मोदी ने अपनी बात को विराम दे दिया। प्रधानमंत्री ने देश के लोगों से कोरोना संक्रमण से बचने की अपील (69th  Maan Ki Baat) की। उन्होंने हर प्रकार के एहतियात बरतने की बात कही। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि जब तक दवा नहीं आ जाती तब कोई ढिलाई नहीं बरतनी चाहिए। महात्मा गांधी को याद करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, गांधी जी के विचार आज ज्यादा प्रासंगिक हैं। 2 अक्टूबर हमारे लिए प्रेरक और पवित्र दिवस है।

PM मोदी ने चुनाव से पहले बिहार को दी 541 करोड़ की सौगात

आपको बता दें मन की बात कार्यक्रम आकाशवाणी पर अलग-अलग भाषाओं में प्रसारित किया गया था। हिंदी प्रसारण के ठीक बाद अन्य भाषाओं में इस कार्यक्रम (69th  Maan Ki Baat) का प्रसारण होआ। पिछले महीने मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने लोकल के लिए वोकल बनने की अपील की थी। खासकर खिलौना निर्माण में भारतीय लोगों को आगे आने की अपील की थी।

पीएम मोदी आज ‘Mann Ki Baat’ के 69वें एपिसोड को संबोधित करेंगे

पिछले बार मन की बात में प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने कहा था, हमारे देश में लोकल खिलौनों की बहुत समृद्ध परंपरा रही है। कई प्रतिभाशाली और कुशल कारीगर हैं, जो अच्छे खिलौने बनाने में महारत रखते हैं। भारत के कुछ क्षेत्र टॉय क्लस्टर यानी खिलौनों के केंद्र के रूप में भी विकसित हो रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, ग्लोबल टॉय इंडस्ट्री 7 लाख करोड़ से भी अधिक की है। 7 लाख करोड़ रुपयों का इतना बड़ा कारोबार, लेकिन भारत का हिस्सा उसमें बहुत कम है। जिस राष्ट्र के पास इतने विरासत हो, परंपरा हो, क्या खिलौनों के बाजार में उसकी हिस्सेदारी इतनी कम होनी चाहिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here