बीजेपी जब ‘अछूत’ थी तब हमने साथ दिया, लेकिन अब वो हमें ख़त्म करना चाहती है: उद्धव ठाकरे

0
62
Maharashtra Politics

Maharashtra Politics: महाराष्ट्र की सियासत किस करवट बैठेगी, ये अभी कहना कुछ मुश्किल है। लेकिन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भारतीय जनता पार्टी पर शिवसेना को ख़त्म करने का आरोप लगाया है।

उन्होंने यह भी कहा कि एक वक्त ऐसा था कि जब हिंदुत्व के चलते बीजेपी को अछूत मानकर कोई भी उसके साथ जाने को तैयार नहीं था, तब बालासाहेब ठाकरे ने हिंदुत्व वोटों का विभाजन रोकने के लिए बीजेपी का साथ देने का फ़ैसला किया, लेकिन अब हम उसका ख़ामियाज़ा भुगत रहे हैं।

उद्धव ठाकरे ने यह बयान ‘मातोश्री’ में शुक्रवार रात राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार और एनसीपी के दो अन्य नेता उप मुख्यमंत्री अजित पवार और जयंत पाटिल के साथ हुई बैठक के बाद आया है। इस मुलाक़ात में शिवसेना नेता संजय राउत भी मौजूद थे।

वैसे शिवसेना ने महाविकास अघाड़ी सरकार पर आए सियासी संकट (Maharashtra Politics) पर विचार करने के लिए शनिवार दोपहर एक बजे अपनी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई है।

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, उद्धव ठाकरे ने आरोप लगाया है, ”हमने ऐसे लोगों को टिकट दिया, जो जीत नहीं सकते थे और हमने उन्हें टिकट देकर जिताया, लेकिन अब हमारे ही लोगों ने हमारी पीठ में छुरा घोंप दिया है। वहीं शरद पवार और सोनिया गांधी ने हमारा समर्थन किया।”

‘भाजपा के साथ जाने का सवाल ही नहीं’

एकनाथ शिंदे गुट की मांग है कि शिवसेना, MVA से गठबंधन तोड़कर फिर से भाजपा के साथ सरकार बनाए। मुख्यमंत्री ठाकरे ने बीजेपी के साथ जाने की मांग को खारिज़ करते हुए कहा, ”​शिवसेना के बाग़ी विधायक उस बीजेपी के साथ जाने की बात कर रहे हैं, जिसने हमारी पार्टी और हमारे परिवार को बदनाम किया। लेकिन ऐसा होने का सवाल ही नहीं उठता।”

उन्होंने आगे कहा कि हर शेर को सवा शेर मिलता ही है। उन्होंने कहा, ”शिवसेना तलवार की तरह है, मयान में रखे तो जंग लगती है। यदि आप इसे बाहर निकालते हैं, तो यह चमकता है और अब इसके चमकने का समय आ गया है।”

अपनी पार्टी के बाग़ी विधायकों के बारे में उन्होंने कहा, ”अगर कोई विधायक या कोई और नेता वहां जाना चाहते हैं, तो वे जा सकते हैं। लेकिन पहले हमारे पास आओ और हमें बताओ, फिर जाओ। लेकिन जिन्होंने हमें छोड़ दिया उनके पास बीजेपी में जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।”

उद्धव ठाकरे ने आगे कहा, ”कुछ दिन पहले मुझे कुछ विधायकों की गतिविधि पर शक़ हुआ तो मैंने एकनाथ शिंदे को फ़ोन करके कहा, शिवसेना को आगे ले जाने का अपना कर्तव्य निभाओ और ये जो हो रहा है वो सही नहीं है। उन्होंने मुझसे कहा कि एनसीपी-कांग्रेस हमें खत्म करने की कोशिश कर रही है और विधायक चाहते हैं कि हम बीजेपी के साथ जाएं।”

उन्होंने आगे कहा, ”अगर आपको लगता है कि मैं बेकार या अयोग्य हूं और पार्टी चलाने में असमर्थ हूं, तो आप मुझे बताएं। मैं पार्टी छोड़ने को तैयार हूं। आपने अब तक मेरा सम्मान किया, क्योंकि बालासाहेब ने ऐसा करने को कहा था।”

ये भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे ने कहा- सरकारी आवास छोड़ा है, अपना इरादा नहीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here