सूरत में शतरंज की बिसात पर ऊंट की चाल चल रहे थे शिंदे..’महा’ बिसात पर भी ‘वजीर’ की होगी बाजी ?

0
54
Maharashra Politics

सूरत/गुवाहाटी/मुंबई: (Maharashtra Politics) राजा को मात देने वाली कई कहानियां आपने पढ़ी-सुनी होगी। लेकिन महाराष्ट्र की सियासी बिसात पर जिस तरह से चालें चली जा रही हैं, उसमें इस बार राजा को उसका वजीर ही मात देने पर उतारू है। जी हां, आपने बिल्कुल ठीक समझा, हम बात कर रहे हैं उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे की। मुंबई से सूरत और फिर गुवाहाटी तक जिस तरह सियासी खेल चल रहा है, उस बिसात पर बाजी वजीर यानी एकनाथ शिंदे के हाथ में दिखाई दे रही है, जबकि शह और मात की बारी राजा यानी उद्धव ठाकरे की है। सूरत के होटल की एक तस्वीर सामने आई है। इस तस्वीर से महाराष्ट्र की बदलती सियासत को पढ़ पाना मुश्किल नहीं है।

सूरत के होटल में क्यों चल रहे थे एकनाथ शिंदे ऊंट की चाल

महाराष्ट्र में विधान परिषद चुनाव का नतीजा आने के बाद जो सियासी भूचाल आया है, उसे समेट पाना उद्धव के लिए भी मुश्किल होता जा रहा है। मंगलवार सुबह होते-होते उद्धव ठाकरे के बगल में बैठने वाले एकनाथ शिंदे बागी हो चुके थे। विधायकों का रेला मुंबई से सीधे सूरत के होटल पहुंच गया और यहां से महाराष्ट्र की सियासी बिसात पर शतरंज की चालें चली जाने लगीं। महासियासी खेल में सबसे बड़े खिलाड़ी हैं एकनाथ शिंदे। जब मुंबई में राजनैतिक उथल-पुथल का दौर जारी था, तब वहां से 283 किलोमीटर दूर सूरत के होटल ल मेरीडियन में शिंदे शतरंज की चाल चलने में मशगूल थे। इस लम्हे की एक तस्वीर भी सामने आई है, जिसमें एकनाथ शिंदे ऊंट को उठाकर बाजी चलते नजर आ रहे हैं।

शतरंज में लंबा खिलाड़ी ऊंट

शतरंज खेलने वाले इस बात से वाकिफ होंगे कि ऊंट तिरछी चाल चलता है और बिसात पर जहां तक खाने खाली हों आगे बढ़ सकता है। ऊंट पलक झपकते ही गेम बदलकर चेक ऐंड मेट भी कर सकता है। इस बार तो राजा उद्धव अपने ही वजीर की चाल के आगे पस्त पड़ता दिखाई दे रहा है। इस बाजी को चलते हुए एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र की सियासी बिसात पर अपनी बदलती राजनीतिक हैसियत के बारे में जरूर सोच रहे होंगे। बालासाहेब का वो कट्टर शिवसैनिक, जिसने 18 साल से शिवसेना का झंडा हाथों में उठाया हो, आज महाराष्ट्र की राजनीति का गेमचेंजर बनकर उभर रहा है। ठाणे का ठाकरे कहे जाने वाले आनंद दिघे का शिष्य अब महाराष्ट्र की सियासी बाजी को पूरी तरह पलटता नजर आ रहा है।

ऊंट को आगे बढ़ाकर संतुष्ट दिखे शिंदे, क्या हैं महाराष्ट्र में सियासी संकेत

सूरत के होटल में ऊंट को बिसात पर आगे बढ़ा रहे एकनाथ शिंदे काफी आश्वस्त दिख रहे हैं। उनके इस शतरंज का ऊंट तेजी से बढ़ते हुए उन्हें सियासी शिखर तक पहुंचाने के करीब है। मानो उन्हें यकीन हो चला है कि महाराष्ट्र की सत्ता (Maharashtra Politics) अब उनकी मुट्ठी में है। लेकिन लोकतंत्र में संख्याबल का खेल है। महाबिसात के इस नंबर गेम में उद्धव ठाकरे उन्निस तो शिंदे कहीं न कहीं बीस पड़ रहे हैं। तभी तो वह खुद के असली शिवसेनिक होने का दावा कर रहे हैं।

कहते हैं कि मौका सबको मिलता है, वक्त भी सबका आता है कोई चाल चल जाता है तो कोई बर्दाश्त कर जाता है। यकीनन ये दौर आज के हिसाब से देखा जाए तो ये वक्त एकनाथ शिंदे का दिख रहा है, जहां महाराष्ट्र की सियासत (Maharashtra Politics) के वो सबसे बड़े बाजीगर बन गए हैं।

एक कहावत है- शतरंज की बिसात पर महफूज था राजा तब तक, थोड़ी बहुत जान बची हुई थी प्यादों में जब तक। उद्धव ठाकरे को भी शायद इसका एहसास हो चला है।

ये भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे की बाग़ी शिवसेनिकों को चेतावनी, एकनाथ शिंदे ने ऐसे दिया जवाब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here