निर्भया के दोषी विनय और मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन खारिज, 22 जनवरी को होनी है फांसी

निर्भया गैंगरेप के दोषी विनय शर्मा और मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। पांच जजों की बेंच ने इन दोनों की क्यूरेटिव पिटीशन को खारिज कर दिया है। डेथ वारंट जारी किए जाने के बाद इन दोनों ने क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की थी। निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी को फांसी की सजा देना तय किया गया है।

0
482

नई दिल्ली: निर्भया गैंगरेप के दोषी विनय शर्मा और मुकेश की क्यूरेटिव पिटीशन को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। पांच जजों की बेंच ने इन दोनों की क्यूरेटिव पिटीशन को खारिज कर दिया है। डेथ वारंट जारी किए जाने के बाद इन दोनों ने क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की थी। निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी को फांसी की सजा देना तय किया गया है।

बता दें कि फांसी की सजा तय होने के बाद विनय और मुकेश ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की थी, जिसे अब अरुण मिश्रा, जस्टिस एनवी रमना, आर. भानुमति, आरएफ नरीमन और अशोक भूषण की बेंच ने खारिज कर दिया है। हालांकि, अभी दोषियों के पास राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजने का विकल्प है।

अपनी क्यूरेटिव पिटीशन में दोषी विनय ने कहा था कि उसे अकेले को ही दंडित नहीं किया जा रहा है, बल्कि उसके पूरे परिवार को उसकी आपराधिक कार्यवाही की वजह से सामाजिक प्रताड़ना झेलनी पड़ रही है। वहीं, दोषी के वकील ने कहा कि याचिकाकर्ता के माता-पिता बूढ़े और बेहद गरीब हैं।

निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों के खिलाफ पटियाला हाउस कोर्ट पहले ही डेथ वारंट जारी कर चुका है। 22 जनवरी की सुबह 7 बजे चारों को फांसी की सजा देना तय किया गया है। इन चारों को उत्तर प्रदेश का जल्लाद पवन फांसी पर लटकाएगा।

गौरतलब है कि 16 दिसंबर 2012 को 6 लोगों ने निर्भया के साथ बर्बरता से रेप किया था और फिर उसकी नृशंस हत्या कर दी थी। इसके बाद अस्पताल में इलाज के दौरान निर्भया ने दम तोड़ दिया था। इसके बाद सभी 6 आरोपियों को गैंगरेप और हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया। इन आरोपियों में से एक ने जेल में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी, जबकि एक को नाबालिग होने की वजह से बाल सुधार गृह में रखने के बाद रिहा कर दिया गया था। अब बाकी बचे चारों दोषियों का डेथ वारंट जारी कर दिया गया है। इन चारों की फांसी की सजा की तारीख भी मुकर्रर कर दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here