धूमधाम से मनाई जा रही है गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती, जानें क्या है इसका महत्व

सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के प्रथम गुरु नानक देव जी की आज यानि कि 12 नवंबर को 550वीं जयंती मनाई जा रही है। गुरु नानक देव जी के जन्मदिन को देश-विदेश में गुरुपर्व या प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जा रहा है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाए जाने वाले प्रकाश पर्व के दिन देव दिवाली का भी त्योहार मनाया जाता है। यहां जानें क्यों मनाई जाती है गुरु नानक जयंती-

0
190

नई दिल्‍ली: सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के प्रथम गुरु नानक देव जी की आज यानि कि 12 नवंबर को 550वीं जयंती मनाई जा रही है। गुरु नानक देव जी के जन्मदिन को देश-विदेश में गुरुपर्व या प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जा रहा है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाए जाने वाले प्रकाश पर्व के दिन देव दिवाली का भी त्योहार मनाया जाता है। यहां जानें क्यों मनाई जाती है गुरु नानक जयंती-

गुरु पर्व या प्रकाश पर्व सिखों के प्रथम गुरु नानक जी की जन्म की खुशी में मनाया जाता है। गुरु नानक देव जी का जन्म 1469 को राय भोई की तलवंडी नाम की जगह पर हुआ था। यह स्थान अब पड़ोसी देश पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में स्थित ननकाना साहिब में है। गुरु नानक देव जी के नाम के आधार पर ही इस जगह का नाम ननकाना साहिब पड़ा।

ये भी पढ़ें- कार्तिक पूर्णिमा के दिन बन रहा है विशेष संयोग, इस मंत्र को पढ़ने से दूर होंगे सभी कष्ट

बता दें कि यहां प्रसिद्ध गुरुद्वारा ननकाना साहिब भी है, यह सिखों के लिए एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल भी है। यहां कीर्तन के साथ-साथ लंगर भी लगाया जाता है और गुरु नानक देव जी के पवित्र उपदेश दिए जाते हैं। दुनियाभर से लोग यहां गुरुद्वारे में मत्था टेकने के लिए आते हैं।

गुरु नानक जी ने अपना पूरा जीवन मानवता की सेवा में समर्पित कर दिया। उन्होंने सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि अफगानिस्तान, ईरान और अरब देशों में भी जाकर उपदेश दिए। गुरु नानक देव जी के सभी उपदेश मानव कल्याण करने वाले हैं। आज उनकी 550वीं जयंती के अवसर पर प्रकाश पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here