इस बार ऑड-ईवन के फॉर्मूले में फंसी CNG गाड़ियां, कई उद्योगों को भी लग सकता है ये झटका

दिल्ली के प्रदूषण पर काबू पाने के लिए राज्य सरकार एक बार ऑड-ईवन स्कीम लाने जा रही है। अगले महीने 4 नवंबर से 15 नवंबर तक दिल्ली-NCR (National Capital Region) में यह स्कीम लागू रहेगी....

0
43

नई दिल्ली ।। दीवाली नजदीक है, लिहाजा दिल्ली के प्रदूषण पर काबू पाने के लिए राज्य सरकार एक बार ऑड-ईवन स्कीम लाने जा रही है। अगले महीने 4 नवंबर से 15 नवंबर तक दिल्ली-NCR (National Capital Region) में यह स्कीम लागू रहेगी। ऐसे में अब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ऑड-ईवन को लेकर कुछ बड़े ऐलान किए हैं, जिससे सीएनजी वाहन के चालकों को झटका लग सकता है।

दरअसल, सीएनजी गाड़ियों को इस बार छूट नहीं दी जाएगी। हालांकि केजरीवाल ने ये जरूर बताया कि महिलाओं को ऑड-ईवन योजना में छूट (शर्तों के साथ) दी जाएगी। यानी कोई भी गाड़ी जिसमें महिला बैठी हो, उसे ऑड-ईवन से छूट दी जाएगी। ऐसी गाड़ी जिसमे महिला के साथ 12 साल तक का बच्चा हो, उसे भी छूट मिलेगी।

वहीं, टू-व्हीलर पर यह स्कीम लागू होगी या नहीं, इसको लेकर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है। इसके अलावा फाइन से जुड़ा भी कोई ऐलान नहीं किया गया है। लेकिन पहले से लागू नए मोटर व्हीकल एक्ट के तहत ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने वालों पर भारी जुर्माना लगाया जा रहा है, लिहाजा इसे देखते हुए ही ऑड-ईवन योजना का उल्लंघन करने पर भी भारी जुर्माना लगाने की तैयारी की जा रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस योजना का उल्लघंन करने पर 20 हजार रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है। दिल्ली सरकार इस दौरान लोगों को प्रदूषण से बचने के लिए मास्क भी बांटेगी।

प्रेस वार्ता के दौरान, सीएम अरविंद केजरीवाल ने दीवाली के मौके पर लोगों से कम पटाखे जलाने की अपील भी की है। केजरीवाल ने कहा है कि सड़कों की सफाई मशीनों की मदद से होगी, पेड़ लगाए जाएंगे और शहर में प्रदूषण से सबसे ज्यादा प्रभावित 12 जगहों के लिए विशेष योजना भी इसमें शामिल है।

जानिए, क्या है ऑड-ईवन फॉर्मूला

इसके मुताबिक, यदि आपकी गाड़ी का आखिरी नंबर ऑड (1,3,5,7,9) है तो आप महीने की 5, 7, 9, 11,13 और 15 तारीख को ही गाड़ी चला पाएंगे और यदि आखिरी नंबर ईवन (2,4,6,8,0) है तो आप महीने की 4, 6, 8, 10, 12 और 14 तारीख को ही गाड़ी चला  पाएंगे।

बता दें कि ऑड-ईवन लागू करने के अलावा वायु प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली-एनसीआर में 15 अक्टूबर से ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रेप) लागू करने का भी फैसला लिया है। यह प्लान 15 अक्टूबर से 15 मार्च तक लागू रहेगा, जिसमें चार अलग-अलग चरणों में वायु प्रदूषण से निपटने के प्रावधान हैं। इसके अंतर्गत डीजल जनरेटर को पूरी तरह से बंद किया जाएगा। हालांकि इसकी वजह से साइबर सिटी की हजारों औद्योगिक इकाइयों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here