चारों आरोपियों को फांसी होने के बाद बोले केजरीवाल, अब दूसरी निर्भया नहीं होने देंगे

0
108
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

दिल्ली। 7 साल बाद निर्भया के चारों आरोपी मुकेश सिंह, अक्षय ठाकुर, पवन गुप्ता, और विनय शर्मा को एक साथ शुक्रवार को सुबह 5:30 बजे फांसी पर लटकाया गया। आरोपियों को फांसी होने के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अब सब संकल्प लें कि अब दूसरी निर्भया नहीं होने देंगे।

केजरीवाल ने आगे कहा कि निर्भया की पहले वहशियाना तरीके से इज्जत लूटी गई और उसके बाद उसकी हत्या कर दिया। पिछले सात साल से पूरा देश इसके खिलाफ न्याय की उम्मीद में बैठा था। आज निर्भया के दोषियों को फांसी हुई है। सात साल लग गए इसमें मुझे लगता है कि आज वो दिन है कि हम सबको मिलकर संकल्प करने की जरूरत है कि दूसरी निर्भया अब नहीं होनी चाहिए।

केजरीवाल ने आगे कहा कि हमने देखा है कि पिछले कुछ महीनों से किसी तरह से फांसी की सजा मिलने के बाद भी पूरे सिस्टम को इन लोगों ने किस तरह से घुमाया और हर बार फांसी की सजा मिलती थी और टल जाती थी। हमारे सिस्टम में बहुत सी कमियां हैं जो गलत काम करने वालों को प्रोत्साहन देती है कि जो मर्जी करो कुछ नहीं होगा और केस लटकते रहेंगे।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि फांसी की सजा मिलने के बाद भी मुझे लगता है कि आज का दिन है कि हम सबको मिलकर संकल्प लेना चाहिए कि अब इस देश में दूसरी निर्भया नहीं होने देंगे और इसके लिए हमें कई स्तरों पर काम करने की जरूरत है। हमें पुलिस का सिस्टम ठीक करने की जरूरत है। कोई महिला पुलिस में जाती है तो उसकी एफआईआर दर्ज नहीं की जाती, जिसने गलत काम किया होता है। उसकी शय पर पीड़िता को तंग किया जाता है। उसे ठीक करने की जरूरत है।

5:30 बजे फांसी पर लटकाया-

इस मामले में तिहाड़ जेल के महानिदेशक संदीप गोयल ने बताया कि चारों दोषियों को ठीक 5:30 बजे फांसी पर लटकाया गया और करीब 6 बजे यानी आधे घंटे बाद चारों को डॉक्टरों द्वारा मृत घोषित कर दिया गया। जेल प्रशासन सूत्रों के अनुसार चारों दोषियों को एक साथ फांसी पर लटकाया गया और इसके लिए जेल नंबर-3 की फांसी कोठी में दो तख्तों पर चारों को लटकाने के लिए चार हैंगर बनाए गए थे। इनमें से एक का लीवर मेरठ से आए जल्लाद पवन ने खींचा तथा दूसरे लीवर को जेल स्टाफ ने खींचा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here