बड़ों को WFH तो बच्चे क्यों जा रहे है स्कूल- Supreme Court

अदालत ने राज्य सरकार ने पूछा कि दफ्तरों में घर से काम हो रहा है तो बच्चों को स्कूल क्यों बुलाया जा रहा है?

0
225
Delhi Air Pollution
अदालत ने राज्य सरकार ने पूछा कि दफ्तरों में घर से काम हो रहा है तो बच्चों को स्कूल क्यों बुलाया जा रहा है?

दिल्ली (Delhi Air Pollution) में स्कूल खोलने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई है। अदालत ने राज्य सरकार ने पूछा कि दफ्तरों में घर से काम हो रहा है तो बच्चों को स्कूल क्यों बुलाया जा रहा है? बता दें 29 नवंबर से राज्य में स्कूलों को खोल दिया गया है।

प्रदूषण बढ़ने के बाद भी स्कूल क्यों खोला गया- SC

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रदेश में प्रदूषण (Delhi Air Pollution) बढ़ने के बावजूद आखिर स्कूल क्यों खोला गया? वायु प्रदूषण पर दिल्ली-NCR में कुछ नहीं किया जा रहा है। दिल्ली सरकार ने 29 नवंबर से राज्य में स्कूलों को खोलने की घोषणा कर दी थी। इस बीच, पिछले कुछ समय से दिल्ली की हवा बेहद खराब स्तर पर पहुंच गई है। पलूशन से हालात खराब है। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार को भी फटकार लगाई है।

आज की सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने प्रदूषण रोकने के लिए दिल्ली सरकार की कोशिशों को सही नहीं कहा। कोर्ट ने पूछा कि जब बड़ों के लिए वर्क फ्रॉम होम हो सकता है। तो बच्चों के स्कूल क्यों खोले जा रहे है? SC ने नाराजगी जताते हुए कहा कि हमसे कहा गया कि स्कूल बंद हैं। लेकिन छोटे बच्चे स्कूल जा रहे हैं? दिल्ली सरकार कोर्ट से कुछ कहती है और करती कुछ और है। इस मामले पर जस्टिस सूर्यकांत ने कहा कि सरकार की तरफ से कुछ लोग प्रदूषण नियंत्रण के बैनर लिए सड़कों पर खड़े हैं। आप सिर्फ लोकप्रिय होने वाले नारे लगाते हैं।

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर रोक लगाने संबंधी वकील विकास सिंह की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट से कहा गया कि वो इसके लिए टास्क फोर्स बनाने के पक्ष में है। इसके लिए फ्लाइंग स्क्वाड का गठन होना चाहिए। धूल और पुरानी गाड़ियों पर एक्शन होना चाहिए।

आंकड़े चौंकाते हैं

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार, 2018 में औसतन AQI 334 था, नवंबर 2017 में 360 था। नवंबर 2016 में 374, नवंबर 2015 के 29 दिनों का औसत 358 था। लेकिन 2021 में नवंबर के 11 दिन वायु प्रदूषण बहुत ज्यादा देखने को मिल रहा है। पिछले साल 2020 में 9, 2019 में 7 और साल 2018 में सिर्फ 5 ही सबसे खराब श्रेणी में देखा गया है। 

कितने तक AQI माना जाता है अच्छा

एयर क्वालिटी इंडेक्स 0 से 50 के बीच अच्छा माना जाता है। 51 से 100 के बीच ये ठीक माना जाता है, जबकि 101 से 200 के बीच मध्यम माना जाता है। 201 से 300 के बीच ये खराब श्रेणी में आता है और 301 से 400 के बीच बेहद खराब। 401 से 500 के बीच एयर क्वालिटी इंडेक्स गंभीर रूप ले लेता है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here