Vishwakarma Pooja 2021: विश्वकर्मा पूजा क्यों मनाई जाती है ? क्या है इसका महत्व और पूजा करने की विधि ?

0
242
Vishwakarma Pooja 2021
17 सितम्बर 2021 के दिन विश्वकर्मा पूजा होती है और ये बहुत ख़ास दिन होता है।

Vishwakarma Pooja 2021. 17 सितम्बर 2021 के दिन विश्वकर्मा पूजा (Vishwakarma Pooja 2021) होती है और ये बहुत ख़ास दिन होता है। इस दिन हम अपने लोहे या औजार की कोई वस्तु, मशीने, दुकानों की पूजा करते है। इस दिन सभी सरकारी दफ्तर और दुकानें बंद रहती है और अवकाश रहता है। इस दिन सभी घरो में लोग विश्वकर्मा भगवान् की पूजा करते है और घर नै मौजूद जितने भी औज़ार , गाड़ियों या मशीनें को साफ़ करके उसकी पूजा करते है।
विश्वकर्मा भगवन की पूजा करने का महत्त्व ये है कि इससे व्यक्ति की शिल्पकला का विकास होता है और व्यापार में तरक्की मिलती है।

पूजा करने की विधि

विश्वकर्मा पूजा वाले दिन फैक्ट्री, दुकान आदि के स्वामी अपनी पत्नी के साथ शुभ मुहूर्त में पूजा स्थल पर बैठ जाएं। इसके बाद एक चौकी पर भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति स्थापित करें। इसके बाद जिन मशीनों, औजारों की आप पूजा करना चाहते हैं उन पर हल्दी अक्षत और रोली लगाएं। भगवान विश्वकर्मा को फूल, चंदन, अक्षत, धूप, रोली, दही, सुपारी, रक्षा सूत्र, फल और मिठाई अर्पित करें। ये सब चीजें उन उपकरणों को भी चढ़ाएं जिनकी आप पूजा करना चाहते हैं। पूजा में जल से भरा कलश भी शामिल करें और उस पर हल्दी, चावल और रक्षासूत्र चढ़ाएं। अंत में भगवान विश्वकर्मा जी की आरती उतारें और उन्हें भोग लगाकर प्रसाद सभी में बांट दें। पूजा के अगले दिन भगवान विश्वकर्मा की प्रतिमा का विसर्जन भी ज़रूर करें।

भगवान विश्वकर्मा की आरती

ॐ जय श्री विश्वकर्मा, प्रभु जय श्री विश्वकर्मा।
सकल सृष्टि के कर्ता, रक्षक श्रुति धर्मा॥ ॐ जय…

आदि सृष्टि में विधि को श्रुति उपदेश दिया।
जीव मात्रा का जग में, ज्ञान विकास किया॥ ॐ जय…

ऋषि अंगिरा ने तप से, शांति नहीं पाई।
ध्यान किया जब प्रभु का, सकल सिद्धि आई॥ ॐ जय…

रोग ग्रस्त राजा ने, जब आश्रय लीना।
संकट मोचन बनकर, दूर दुःख कीना॥ ॐ जय…

जब रथकार दंपति, तुम्हरी टेर करी।
सुनकर दीन प्रार्थना, विपत हरी सगरी॥ ॐ जय…

एकानन चतुरानन, पंचानन राजे।
त्रिभुज चतुर्भुज दशभुज, सकल रूप सजे॥ ॐ जय…

ध्यान धरे जब पद का, सकल सिद्धि आवे।
मन दुविधा मिट जावे, अटल शक्ति पावे॥ ॐ जय…

“श्री विश्वकर्मा जी” की आरती, जो कोई नर गावे।
कहत गजानंद स्वामी, सुख संपति पावे॥ ॐ जय…

Also Read: Weather Update: 30 से अधिक जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, 20 सितम्बर तक येलो अलर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here