दिशा रवि की जमानत पर आज होगा फैसला, कौन है पीटर

भारत में टूलकिट मामला Toolkit Case गरमाता जा रहा है। सबसे ज्यादा जिसका नाम चर्चा में है वो है पीटर फ्रेडरिक।

0
286
Toolkit Case
भारत में टूलकिट मामला Toolkit Case गरमाता जा रहा है। सबसे ज्यादा जिसका नाम चर्चा में है वो है पीटर फ्रेडरिक।

New Delhi: भारत में टूलकिट मामला (Toolkit Case) गरमाता जा रहा है। सबसे ज्यादा जिसका नाम चर्चा में है वो है पीटर फ्रेडरिक। बता दें स्वीडन की एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) ने जिस टूलकिट को सोशल मीडिया पर शेयर किया, उसे भारत के खिलाफ प्रॉक्सी वॉर कहा जा रहा है। तो वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया के जरिए पीटर अपना बचाव करने के लिए टिप्पणी कर रहे है। किसान आंदोलन (Farmers Protest) की वजह से ये मुद्दा उठाया गया है। 

टूलकिट केस: दिशा रवि को तीन दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

दिल्ली पुलिस ने कहा कि पीटर खालिस्तान का एक मोहरा है, जो भारत के खिलाफ साजिश कर रहा है। पुलिस ने ये भी कहा कि शांतनु इस मामले का मुख्य किरदार है। क्योंकि टूलकिट (Toolkit Case) एक गूगल डॉक्यूमेंट है, जो शांतनु के ईमेल एकाउंट से तैयार किया गया। इस गूगल डॉक्यूमेंट का ओनर शांतनु ही है और बाकी सब उसके एडिटर हैं। 

Toolkit Case: Shit…Shit अभी भेज रही हूं…. Greta और Disha की चैट हुई वायरल

कल हुई थी 7 घंटे पूछताछ

सोमवार को दिल्ली पुलिस ने शांतनु और निकिता (Shantanu and Nikita) से 7 घंटे पुछताछ की और दोनों को आमने-सामने बिठाकर क्रॉस सवाल पूछे। सूत्रों के मुताबिक, शांतनु और निकिता से सवाल उस टाइम लाइन से जुड़े थे, जो पुलिस को रवि दिशा से और अब तक कि जांच में पता चले थे। शांतनु और निकिता साल 2019 और 20 से आपस मे सम्पर्क में थे और दिसंबर के पहले हफ्ते में ही पूरी प्लानिंग शुरू हो गई थी। 

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here