लाक्षागृह बने लेवाना होटल पर सरकार का शिकंजा, मालिक की जमानत याचिका खारिज

0
60

गैरइरादतन हत्या के मामले में होटल लेवाना के मालिक पवन अग्रवाल की अग्रिम जमानत अर्जी सत्र अदालत ने खारिज कर दी है। बता दें की 5 सितंबर 2022 की सुबह होटल लेवाना में आग लग गई थी। इस आग में चार लोगों की मौत हो गई थी। जबकि सात लोग बुरी तरह से घायल हुए थे।

जिला के जज संजय शंकर पांडेय ने अपने आदेश में ये कहा है कि इस मामले की विवेचना में पाया गया है कि होटल का निर्माण आवासीय प्लाट पर कराया गया था। इसका नक्शा भी मंजूर नहीं था। पिछले पांच साल से यह होटल अवैध तरीके से चल रहा था।

वहीं फौजदारी के जिला शासकीय अधिवक्ता मनोज त्रिपाठी ने अग्रिम जमानत अर्जी का जोरदार विरोध किया। उनका कहना था कि होटल में फायर सेफ्टी की कोई भी व्यवस्था नहीं की गई थी। आपात स्थिति में बाहर निकलने व प्रवेश करने की भी कोई व्यवस्था नहीं थी। ऐसी भी व्यवस्था नहीं थी, जिससे धुंआ बाहर निकल सके। होटल मालिक व मैनेजर तथा अन्य को मालुम था कि ऐसी आपात स्थिति में लोगों की जान जा सकती है। बावजूद इसके बचाव का कोई इंतजाम नहीं किया गया था।

इस मामले की एफआइआर दारोगा दयाशंकर द्विवेदी ने थाना हजरतगंज में दर्ज कराई थी। विवेचना के दौरान इस मामले में पवन के बेटे रोहित अग्रवाल व राहुल अग्रवाल तथा मैनेजर सागर श्रीवास्तव को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेजा दिया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here