Shardiya Navratri Day 5: पांचवें दिन मां स्कंदमाता को इस विधि से करें प्रसन्न, मिलेगा भरपूर आशीर्वाद

0
64
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता

Shardiya Navaratri Day 5: 26 सितंबर को हिंदुओं के प्रमुख त्योहार नवरात्रि का शुभारंभ हुआ था। नवरात्रि दो शब्दों के मेल से बना एक शब्द है, नव और रात्रि। नव यानी नौ और रात्रि यानी रातें। जिसका मतलब होता है नौ रातें, यानी दुर्गा मां के नौ दिन। इन नौ दिनों में दुर्गा माता (Maa Durga) नौ रूपों में प्रकट होती है और अपने भक्तों को आशीर्वाद देती हैं।

वहीं 30 सितंबर को शारदीय नवरात्रि का पांचवां दिन है। इस दिन मां स्कंदमाता (Mata Skandmata) की पूजा की जाती है। बता दें की मां स्कंदमाता की पूजा आराधना से भक्तों को सुख और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। मां स्कंदमाता के इस रूप को अग्नि देवी के रूप में भी पूजा जाता है। मां स्कंदमाता अपने भक्तों को भरपूर आशीर्वाद भी देती हैं।

आइए आपको बताते है मां स्कंदमाता की पूजा विधि, रंग, मंत्र और क्या भोग लगाने से मां प्रसन्न होंगी।

पूजा करते समय इस मंत्र को जपे

नवरात्रि का पांचवां दिन मां स्कंदमाता के नाम होता है। मां स्कंदमाता के इस मंत्र को जपने से मिलेगा भरपूर आशीर्वाद और सुख। मां स्कंदमाता का मंत्र :-

॥नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥

॥सिंहासनगता नित्यं पद्माञ्चित करद्वया॥

॥शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥

मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता

मां स्कंदमाता की पूजा विधि

नवरात्रि का पांचवां दिन मां स्कंदमाता (Mata Skandmata) के नाम होता है। इस दिन मां को प्रसन्न करने के लिए सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए। इस दिन हमें नहाकर स्वच्छ कपड़े पहनने चाहिए। फिर घर के मंदिर में चौकी स्थान पर मां स्कंदमाता की तसवीर रखें। मां स्कंदमाता को गंगाजल से स्नान कराएं। फिर एक कलश लेकर उसे पानी से भरें और उसमे कुछ सिक्के डालें। इसके बाद मां स्कंदमाता को रोली और कुमकुम लगाएं। फिर मां की आरती उतारे और आरती के बाद सभी को प्रसाद बांटे। सभी को प्रसाद बांटने के बाद प्रसाद खुद भी लें।

ये रंग शुभ माना गया है

नवरात्रि के पांचवें दिन मां स्कंदमाता की पूजा आराधना की जाती है। मां स्कंदमाता को सफेद रंग बेहद पसंद है। आप भी माता की पूजा करते समय सफेद रंग के कपड़े पहने। इससे मां अपने भक्तों से बहुत प्रसन्न होती है।

मां स्कंदमाता का भोग

मां स्कंदमाता दुर्गा माता के नौ रूपों में से एक है। दुर्गा माता का पांचवा रूप स्कंदमाता होती हैं। मां स्कंदमाता को सफेद रंग की चीजें बेहद पसंद आती है। इस दिन स्कंदमाता को केले का भोग लगाना चाहिए। ऐसा करने पर मां अपने भक्तों से काफी प्रसन्न भी होती हैं।

इस तरह नवरात्रि का पांचवा दिन पूरा होता है और मां स्कंदमाता काफी प्रसन्न भी होती हैं। इसी तरह मां स्कंदमाता की पूजा आराधना की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here