राहुल गांधी के आरोप पर कांग्रेस नेताओं ने दिया ये जवाब..

पार्टी के नेतृत्व को लेकर 23 नेताओं द्वारा सोनिया को भेजी गई चिट्ठी को पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा के साथ मिलीभगत करार दिया है।

0
298
Rahul Gandhi
चिट्टी लिखने वाले नेताओं पर राहुल गांधी का आरोप, नेताओं ने दिया ये जवाब..

Delhi: कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर छिड़ी बहस के बीच कांग्रेस कार्यसमिति की आभासी बैठक जारी है। बैठक से पहले ही पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने अध्यक्ष पद के छोड़ने की पेशकश की है। वहीं पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) और वरिष्ठ नेता एके एंटनी ने उनसे पद पर बने रहने को कहा है। दूसरी ओर पार्टी के नेतृत्व को लेकर 23 नेताओं द्वारा सोनिया को भेजी गई चिट्ठी को पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भाजपा के साथ मिलीभगत करार दिया है। जिसपर पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) और गुलाम नबी आजाद ने विरोध जताया है।

कांग्रेस CWC की बैठक आज, नए अध्यक्ष के नाम पर होगी चर्चा

राहुल गांधी ने नेतृत्व में बदलाव को लेकर पत्र लिखने वाले नेताओं पर निशाना साधते हुए इसे भाजपा के साथ मिलीभगत करार दिया। जिसपर सिब्बल और आजाद जैसे वरिष्ठ नेताओं ने विरोध जताया। पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, ‘श्री राहुल गांधी की बात का वो मतलब नहीं था और न ही उन्होंने ऐसा कहा। कृपया झूठे मीडिया बातचीत या गलत सूचना के प्रसार से भ्रमित न हों। लेकिन हां, हम सभी को एक साथ मिलकर मोदी सरकार के खिलाफ लड़ना है न कि एक-दूसरे को चोट पहुंचाने या कांग्रेस के खिलाफ।’ वही पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि यदि राहुल गांधी का भाजपा के साथ मिलीभगत वाला बयान साबित हो जाता है तो वे अपने पद से इस्तीफा दे देंगे।

सुशांत केस में CBI जांच का आज चौथा दिन, जल्द ही रिया को भेजा जाएगा नोटिस

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, बैठक में राहुल गांधी ने कहा कि ऐसा (पार्टी नेतृत्व में सुधारों के लिए सोनिया गांधी को पत्र) भाजपा के साथ मिलीभगत की वजह से किया गया। जिसके बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने जवाब देते हुए कहा, ‘राहुल गांधी का कहना है कि हम भाजपा के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। राजस्थान उच्च न्यायालय में कांग्रेस पार्टी का बचाव किया। भाजपा सरकार को गिराने के लिए मणिपुर में पार्टी का बचाव किया। पिछले 30 सालों ने कभी भी किसी मुद्दे पर भाजपा के पक्ष में बयान नहीं दिया। फिर भी हम भाजपा से मिले हो सकते हैं।’

देश में कोरोना के केस 31 लाख के पार, 57 हजार से ज्यादा मौत

सूत्रों के अनुसार, सीडब्ल्यूसी बैठक के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि पत्र (पार्टी नेतृत्व के बारे में सोनिया गांधी) को उस समय लिखा गया था जब राजस्थान में कांग्रेस सरकार संकट का सामना कर रही थी। पत्र में जो कुछ लिखा गया है उसपर चर्चा करने का सही स्थान सीडब्ल्यूसी की बैठक था न कि मीडिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here