आज भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होंगे राफेल लड़ाकू विमान

राफेल विमानों का निर्माण फ्रांस की कंपनी दसॉल्ट एविएशन ने किया है। और 29 जुलाई को पहली खेप के तहत पांच राफेल विमान भारत लाए गए थे।

0
221
CAG Report
CAG का खुलासा Rafale बनाने वाली कंपनी ने अपना वादा पूरा नहीं किया

Delhi: LAC पर तनाव के बीच फ्रांस (France) से भारत (India) पहुंची पांच राफेल लड़ाकू विमानों (Rafale Jets) की पहली खेप आज अंबाला एयरबेस (Ambala Airbase) पर औपचारिक रूप से वायुसेना (Indian Army) के बेड़े में शामिल होगी। इस कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh), फ्रांस की उनकी समकक्ष फ्लोरेंस पार्ली (Florence Parly), प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (CDS) जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat), वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया (R.K.S Bhadauria) और रक्षा सचिव अजय कुमार (Ajay Kumar) शिरकत करेंगे। वायुसेना के एक प्रवक्ता ने इसे बल के इतिहास का मील का पत्थर करार देते हुए कहा, ‘कार्यक्रम के दौरान राफेल विमान का औपचारिक अनावरण किया जाएगा। पारंपरिक ‘सर्वधर्म पूजा’ की जाएगी और राफेल और तेजस विमान हवाई करतब दिखाएंगे।’

चीन के दावे पर भारत का जवाब- पीएलए ने की उकसावे की कार्रवाई

वही वायुसेना के प्रवक्ता विंग कमांडर इंद्रनील नंदी (Wing Commander Indranil Nandi) ने कहा कि राफेल विमानों (Rafale Jets) को 17वें स्क्वॉड्रन में शामिल करने से पहले उन्हें पानी की बौछारों से पारंपरिक सलामी दी जाएगी। गौतलब है कि राफेल विमानों का निर्माण फ्रांस की कंपनी दसॉल्ट एविएशन (Dassault Aviation) ने किया है। और 29 जुलाई को पहली खेप के तहत पांच राफेल विमान भारत लाए गए थे। भारत ने लगभग चार साल पहले फ्रांस से 59,000 करोड़ रुपये में 36 राफेल विमान खरीदने का सौदा किया था। अब तक भारत को 10 राफेल विमानों की आपूर्ति की जा चुकी है जिनमें से पांच अभी फ्रांस में ही हैं जिन पर भारतीय वायुसेना के पायलट प्रशिक्षण ले रहे हैं।

LAC पर चली गोली, फिर भिड़े भारत और चीन के सैनिक

उम्मीद की जा रही है कि सभी 36 लड़ाकू विमानों की आपूर्ति 2021 के अंत तक पूरी हो जाएगी। इसी कड़ी में चार राफेल लड़ाकू विमानों के एक अन्य खेप को नवंबर तक भारत लाए जाने की उम्मीद है। राफेल की Induction Ceremony में शामिल होने के लिए फ्रांस के रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली भी 80 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ भारत आ रही है। भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से दोनों देशों के रक्षा और सुरक्षा सहयोग को गहरा करने के मुद्दों पर विचार विमर्श करेंगी। साथ ही सूत्रों का कहना है कि भारत द्वारा फ्रांस से 36 और लड़ाकू विमानों की संभावित खरीद पर सिंह और पार्ली की बातचीत के दौरान शुरुआती चर्चा हो सकती है। इन दोनों कदमों को चीन और पाकिस्तान के लिए एक बड़े संदेश के रूप में देखा जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here