NEP 2020: गवर्नर कॉन्फ्रेंस में पीएम बोले, सरकार की नहीं ये देश की शिक्षा नीति है

प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को राष्ट्रपति कोविंद के साथ राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लेकर शुरू हो रहे राज्यपालों के सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सम्बोधित किया।

0
314
New Education Policy Conference
NEP 2020: गवर्नर कॉन्फ्रेंस में पीएम बोले, सरकार की नहीं ये देश की शिक्षा नीति है

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ram Nath Kovind) के साथ राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लेकर शुरू हो रहे राज्यपालों के सम्मेलन के उद्घाटन सत्र को वीडियो कॉन्फ्रेंस (New Education Policy Conference) के जरिए सम्बोधित किया। बता दें कि सरकार की ओर से बीते दिनों ही नई शिक्षा नीति का ऐलान किया गया है, जिस पर अभी भी मंथन जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान कहा कि नई शिक्षा नीति ‘आत्म निर्भर भारत’ के संकल्प को आकार देने वाली है।

पीएम मोदी ने कहा कि इस नीति को (New Education Policy Conference) तैयार करने में लाखों लोगों से बात की गई, जिनमें छात्र-शिक्षक-अभिभावक सभी शामिल थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज हर किसी को ये नीति अपनी लग रही है, जो सुझाव लोग देखना चाहते थे वो दिख रहे हैं। अब देश में नई शिक्षा नीति को लेकर देश में उसके लागू करने के तरीके पर संवाद हो रहा है, ये इसलिए जरूरी है, क्योंकि इससे 21वें सदी के भारत का निर्माण होना है।

देश में लगातार दूसरे दिन 90 हजार से ज्यादा नए केस, कुल आंकड़ा 42 लाख के पार

 

उन्होंने कहा कि ये शिक्षा नीति, सरकार की शिक्षा नीति नहीं है। ये देश की शिक्षा नीति है। जैसे विदेश नीति देश की नीति होती है, रक्षा नीति देश की नीति होती है, वैसे ही शिक्षा नीति भी देश की ही नीति है। देश की आकांक्षाओं को पूरा करने का माध्यम है, लेकिन इसमें सरकार का दखल और प्रभाव न्यूनतम होना चाहिए। शिक्षा नीति से जितने शिक्षक, अभिभावक, छात्र जुड़े होंगे, उतनी ही उसकी प्रासंगिकता और व्यापकता बढ़ती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज दुनिया में नौकरियों को लेकर चर्चा हो रही है, ऐसे में शिक्षा नीति को ज्ञान और स्किल पर तैयार करेगी। शिक्षा नीति न्यू इंडिया और आत्मनिर्भर भारत के मिशन को पूरा करेगी। बता दें कि इस सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अलावा राज्यपाल, सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री, सभी राज्य विश्वविद्यालयों के कुलपति और अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here