पीएम ने Tax से जुड़ी ये सेवा की लॉन्च, जानिए अहम बातें

पीएम ने आज (Transparent Taxation Honoring The Honest) मंच की शुरुआत की। पीएम ने कहा कि इसमें फेसलेस असेसमेंट, फेसलेस अपील और टैक्सपेयर्स चार्टर जैसे बड़े रिफॉर्म शामिल हैं।

0
249
Transparent Taxation Honoring The Honest
पीएम ने Tax से जुड़ी ये सेवा की लॉन्च, जानिए अहम बातें

New Delhi: पीएम नरेंद्र मोदी ने आज टैक्सपेयर्स के लिए बड़ी घोषणा की है। पीएम ने वीडियो कांफ्रेन्सिंग के जरिये आज ‘पारदर्शी कराधान – ईमानदार का सम्मान’ (Transparent Taxation Honoring The Honest) मंच की शुरुआत की उन्होंने कहा कि नए सिस्टम से ट्रांसफर पोस्टिंग के लिए जुगाड़ और सिफारिश खत्म होगी।

 प्लेटफार्म की शुरुआत करते हुए (Transparent Taxation Honoring The Honest) पीएम ने कहा कि इसमें फेसलेस असेसमेंट, फेसलेस अपील और टैक्सपेयर्स चार्टर जैसे बड़े रिफॉर्म शामिल हैं। सरकार ने (Faceless Assessment) और (Taxpayers Charter) आज से लागू कर दिया। जबकि (Faceless appeal) की सुविधा 25 सितंबर यानी दीन दयाल उपाध्याय जी के जन्मदिन से पूरे देशभर में नागरिकों के लिए उपलब्ध हो जाएगी।

प्रधानमंत्री मोदी आज लॉन्च करेंगे नई योजना, टैक्सपेयर्स के लिए अच्छी खबर

पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा कि देश का ईमानदार टैक्सपेयर राष्ट्रनिर्माण में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है। जब देश के ईमानदार टैक्सपेयर का जीवन आसान बनता है, वो आगे बढ़ता है, तो देश का भी विकास होता है, देश भी आगे बढ़ता है। आज से शुरू हो रहीं नई व्यवस्थाएं, नई सुविधाएं, मिनिमम गवर्नमेंट, मैक्सिमम गवर्नेंस के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत करती हैं।

इसके अलावा पीएम ने बताया कि 2012-13 में जितने टैक्स रिटर्स होते थे और उनकी स्क्रूटनी होती थी आज उससे काफी कम है, क्योंकि टैक्सपेयर्स पर भरोसा किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज 130 करोड़ लोगों में से सिर्फ डेढ़ करोड़ लोग ही टैक्स भर रहे हैं, ये संख्या काफी कम है। हर व्यक्ति को इसपर चिंतन करना होगा, इससे ही देश आत्मनिर्भर आगे बढ़ेगा। पीएम ने कहा कि 15 अगस्त से ही लोग टैक्स देने का संकल्प लें।

पीएम मोदी ने किसान सम्मान निधि योजना की छठी किस्त की जा

पीएम मोदी ने ये भी कहा कि, ”एक दौर था जब हमारे यहां सुधारों की बहुत बातें होती थीं। कभी मजबूरी में कुछ फैसले लिए जाते थे, कभी दबाव में कुछ फैसले हो जाते थे, तो उन्हें सुधार कह दिया जाता था। इस कारण इच्छित परिणाम नहीं मिलते थे। अब ये सोच और अप्रोच, दोनों बदल गई है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here