2,312 किलोमीटर दूर अंडमान तक केबल के जरिए हाई स्पीड इंटरनेट

सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल लिंक चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर के बीच 2x200 गीगाबिट का बैंडविद्थ (GBPS) देगा. पोर्ट ब्लेयर और अन्य द्वीपों के बीच 2x100 जीबीपीएस देगा.

0
212
Kosi Rail Mega Bridge
पीएम ने बिहार में ऐतिहासिक 'कोसी रेल महासेतु' का उद्घाटन किया

Delhi: आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चेन्नई-अंडमान निकोबार द्वीप समूह (CANI) सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल परियोजना (OFC Scheme) का उद्घाटन किया. समुद्र के भीतर बिछी यह 2,312 किलोमीटर लंबी केबल पोर्ट ब्लेयर को स्वराज दीप (हैवलॉक), लिटिल अंडमान, कार निकोबार, कामोरता, ग्रेट निकोबार, लांग आईलैंड और रंगट को भी जोड़े गया. प्रधानमंत्री ने इस परियोजना की आधारशिला पोर्ट ब्लेयर में दिसंबर 2018 में रखी थी और यह प्रोजेक्ट तय वक्त में पूरा हो गया है.

पीएम मोदी ने किसान सम्मान निधि योजना की छठी किस्त की जारी

इस परियोजना (OFC Scheme) से अंडमान निकोबार द्वीप समूह में मोबाइल, ब्रॉडबैंड और लैंडलाइन दूरसंचार सेवाएं बेहतर और भरोसेमंद होंगी. ये सेवाएं देश के अन्य भागों की तरह होंगी. इससे वहां 4G सेवाएं भी दुरुस्त होंगी. सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल लिंक चेन्नई और पोर्ट ब्लेयर के बीच 2×200 गीगाबिट का बैंडविद्थ (GBPS) देगा. पोर्ट ब्लेयर और अन्य द्वीपों के बीच 2×100 जीबीपीएस देगा. आधिकारिक बयान के अनुसार, ‘बेहतर दूरसंचार और ब्रॉडबैंड संपर्क सुविधा से अंडमान निकोबार द्वीप क्षेत्र में पर्यटन और रोजगार सृजन को गति मिलेगी. साथ ही इससे अर्थव्यवस्था में मजबूती आएगी और लोगों का जीवन स्तर सुधरेगा. बेहतर कनेक्टिविटी से टेलीमेडिसिन और टेली-एजुकेशन को बढ़ावा मिलेगा.”

संजय राउत के आरोप के बाद, सुशांत की बहन और बिहार के DGP ने दिया ये जवाब

अंडमान निकोबार के मुख्य सचिव चेतन सांघी ने कहा, ‘भारत सरकार द्वारा अंडमान के लिए चेन्नई से अंडर सी केबल जो कनेक्ट हो रहा है, उसके लिए सारे अंडमान के द्वीप वासी भारत सरकार के और मुख्य रूप से माननीय प्रधानमंत्री जी के ह्रदय से कृतज्ञ हैं. जब वह (PM Modi) दिसंबर 2018 में यहां आए थे, अंडमान में इसकी आधारशिला रखी थी और 20 साल से अंडमानवासी जो सपना देख रहे थे, वह अब पूरा होने जा रहा है.’ आपको बता दें कि परियोजना का क्रियान्वयन भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) कर रही है, जबकि टेलीकम्युनिकेशंस कंसल्टेंट्स इंडिया लिमिटेड (TCIL) तकनीकी परामर्शदाता थी. इस परियोजना के लिए करीब 2300 किलोमीटर OFC बिछाया गया है, जिसपर करीब 1,224 करोड़ रुपये की लागत आई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here