बिना प्रश्नकाल के होगी सदन की कार्यवाही, विपक्ष ने साधा निशाना

सत्र के पहले दिन सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक सदन चलेगी और दूसरे दिन सदन 3 बजे से शाम 7 बजे तक चलेगा। इसी तरह राज्य सभा 14 सितंबर को दोपहर 3 बजे से 7 सात बजे तक बैठेगी.

0
198
Parliament Monsoon Session
अनुराग ठाकुर के इस बयान के कारण लोकसभा में हुआ हंगामा

Delhi: 14 सितंबर 2020 से कोरोना महामारी में पहली बार सदन (Monsoon Session) की कार्यवाही शुरु होगी। लेकिन विपक्ष सदन (Parliament) की कार्यवाही को लेकर सरकार पर हमलावर है। दरअसल, इस बार सदन की कार्यवाही बिना प्रश्नकाल होगी। जिसकी वजह से विपक्ष बेहद नाराज दिख रहा है। प्रश्नकाल रद्द होने को लेकर तृणमूल कांग्रेस (TMC) के सांसद डेरेक ओ ब्रायन (Derek O’Brien) ने हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि अगर संसद में बाकी काम अपने समय से तय किए गए तो फिर प्रश्नकाल क्यों हटाया गया।

आप नेता संजय सिंह का योगी सरकार पर आरोप, किया बड़ा खुलासा

बता दें कि कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के बीच 17वीं लोकसभा (Loksabha Monsoon Session) का चौथा सत्र 14 सितंबर 2020 से शुरू होने जा रहा है। सत्र के पहले दिन सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक सदन चलेगी और दूसरे दिन सदन 3 बजे से शाम 7 बजे तक चलेगा। इसी तरह राज्य सभा 14 सितंबर को दोपहर 3 बजे से 7 सात बजे तक बैठेगी और बाकी दिन सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक ही बैठेगी। शनिवार और रविवार छुट्टी नहीं होगी। 14 सितंबर से एक अक्टूबर तक कुल 18 बैठकें होंगी। इस बार सदन की कार्यवाही से प्रश्नकाल को हटा दिया गया है, जिसके बाद विपक्ष ने सरकार पर निशाना भी साधा है। बदलावों के अनुसार मानसून सत्र में प्रश्नकाल नहीं होगा लेकिन शून्य काल रहेगा।

देश में कोरोना का कहर, 24 घंटे में 78,357 केस, 1045 मौतें

बुधवार को इसपर टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने ट्वीट लिखा, ‘सांसदों को प्रश्नकाल के लिए संसद को 15 दिन पहले प्रश्न जमा करना जरूरी होता है। सत्र 14 सितंबर से शुरू है. इसलिए प्रश्नकाल रद्द किया गया? विपक्षी दलों के सांसदों ने सरकार से सवाल पूछने का अधिकार खो दिया। शायद 1950 से पहली बार? संसद के कामकाज के बाकी घंटे पहले की तरह ही हैं तो प्रश्नकाल क्यों रद्द किया गया? महामारी के बहाने लोकतंत्र की हत्या।’ आपको बता दें कि लोकसभा में कार्यवाही का पहला घंटा प्रश्नकाल कहलाता है जबकि राज्यसभा में कार्यवाही के पहले घंटे को शून्यकाल (Zero Hour) कहते हैं। प्रश्नकाल में सांसद विभिन्न सूचीबद्ध मुद्दों पर प्रश्न करते हैं जिसकी शुरुआत राज्यसभा में 12 बजे से होती है। वहीं, शून्यकाल में सांसद बगैर तय कार्यक्रम के महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार व्यक्त करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here