Mann Ki Baat: पीएम मोदी ने बताया चीन के क्लीन स्वीप का प्लान

प्रधानमंत्री ने कहा कि खिलौना वो हो जिसकी मौजूदगी में बचपन खिले भी, खिलखिलाए भी . हम ऐसे खिलौने बनाएं, जो पर्यावरण के भी अनुकूल हों.

0
258
Mann Ki Baat
Mann Ki Baat: पीएम मोदी ने बताया चीन के क्लीन स्वीप का प्लान

Delhi: रविवार को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ (Mann Ki Baat) का 68वें संस्करण किया. अपने संबोधन में पीएम (PM Modi) ने स्वदेशी खिलौने और कंप्यूटर गेम बनाने की अपील की. पीएम मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान में गेम्स, खिलौने का सेक्टर सभी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है. 100 वर्ष पहले, गांधी जी ने लिखा था कि –“असहयोग आन्दोलन, देशवासियों में आत्मसम्मान और अपनी शक्ति का बोध कराने का एक प्रयास है.” प्रधानमंत्री ने कहा कि खिलौना वो हो जिसकी मौजूदगी में बचपन खिले भी, खिलखिलाए भी . हम ऐसे खिलौने बनाएं, जो पर्यावरण के भी अनुकूल हों.

श्रीनगर मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर, ASI बाबू राम शहीद

प्रधानमंत्री ने कहा (Mann Ki Baat) कि खिलौने एक्टिविटी भी बढ़ाता है और हमारी आकांक्षाओं को भी उड़ान देते हैं. बच्चों के जीवन पर खिलौनों के प्रभाव पर राष्ट्रीय शिक्षा नीति में भी बहुत ध्यान दिया गया है. पीएम ने कहा. ‘ग्लोबल टॉय इंडस्ट्री 7 लाख करोड़ रु. से अधिक की है. 7 लाख करोड़ रु. का इतना बड़ा कारोबार लेकिन भारत में उसका हिस्सा बहुत कम है. आप सोचिए जिस राष्ट्र के पास इतनी विरासत हो, परंपरा हो, विविधता हो, युवा आबादी हो, क्या खिलौनों के बाजार में उसकी हिस्सेदारी इतनी कम होनी चाहिए, हमें अच्छा लगेगा क्या? टॉय इंडस्ट्री बहुत व्यापक है. गृह उद्योग हो, लघु उद्योग हो, एमएसएमई हो इसके साथ साथ बड़े उद्योग और निजी उद्यमी भी इसके दायरे में आते हैं. इसे आगे बढ़ाने के लिए मिलकर मेहनत करनी होगी.’

Covid19 Update: देश में कोरोना का आंकड़ा 35 लाख के पार, एक दिन में रिकॉर्ड 78,761 नए केस

कोरोनाकाल बोलते हुए पीएम ने कहा (Mann Ki Baat), ‘कोरोना के इस कालखंड में देश कई मोर्चों पर एक साथ लड़ रहा है, लेकिन इसके साथ-साथ, कई बार मन में ये भी सवाल आता रहा कि इतने लम्बे समय तक घरों में रहने के कारण, मेरे छोटे-छोटे बाल-मित्रों का समय कैसे बीतता होगा. हमारे चिंतन का विषय था- खिलौने और विशेषकर भारतीय खिलौने . हमने इस बात पर मंथन किया कि भारत के बच्चों को नए-नए खिलौने कैसे मिलें, भारत, खिलौने प्रोडक्शन का बहुत बड़ा हब कैसे बने. हमारे देश में लोकल खिलौनों की बहुत समृद्ध परंपरा रही है. कई प्रतिभाशाली और कुशल कारीगर हैं, जो अच्छे खिलौने बनाने में महारत रखते हैं .भारत के कुछ क्षेत्र टॉय क्लस्टर यानी खिलौनों के केन्द्र के रूप में भी विकसित हो रहे हैं. जैसे, कर्नाटक के रामनगरम में चन्नापटना, आन्ध्र प्रदेश के कृष्णा में कोंडापल्ली, तमिलनाडु में तंजौर, असम में धुबरी, उत्तर प्रदेश का वाराणसी – कई ऐसे स्थान हैं, कई नाम गिना सकते हैं.’

रिया चक्रवर्ती के जवाब को लेकर संतुष्ट नहीं सीबीआई…

अपने संबोधन में पीएम ने आगे कहा, ‘अब आप सोचिए कि जिस राष्ट्र के पास इतनी विरासत हो, परम्परा हो, विविधता हो, युवा आबादी हो, क्या खिलौनों के बाजार में उसकी हिस्सेदारी इतनी कम होनी, हमें, अच्छा लगेगा क्या? जी नहीं, ये सुनने के बाद आपको भी अच्छा नहीं लगेगा. अब जैसे आन्ध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में सी.वी. राजू हैं. उनके गांव के एति-कोप्पका टॉय एक समय में बहुत प्रचलित थे. इनकी खासियत ये थी कि ये खिलौने लकड़ी से बनते थे, और दूसरी बात ये कि इन खिलौनों में आपको कहीं कोई एंगल या कोण नहीं मिलता था. सी.वी. राजू ने एति-कोप्पका खिलौनों के लिये, अब, अपने गांव के कारीगरों के साथ मिलकर एक तरह से नया आंदोलन शुरू कर दिया है . बेहतरीन क्वलालिटी के एति-कोप्पका खिलौने बनाकर सी.वी. राजू ने स्थानीय खिलौनों की खोई हुई गरिमा को वापस ला दिया है.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here