आज सीएम पद की शपथ लेंगी ममता बनर्जी, जानें टाइमिंग से लेकर गेस्ट लिस्ट

ममता बनर्जी आज राजभवन में शपश ग्रहण करेंगी। कोविड-19 महामारी के चलते शपथ ग्रहण समारोह बेहद सादगी भरा होगा।

0
132
Mamata Banerjee
ममता बनर्जी आज राजभवन में शपश ग्रहण करेंगी। कोविड-19 महामारी के चलते शपथ ग्रहण समारोह बेहद सादगी भरा होगा।

West Bengal: ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) आज राजभवन में शपश ग्रहण करेंगी। कोविड-19 महामारी के चलते शपथ ग्रहण समारोह बेहद सादगी भरा होगा। शपथ ग्रहण कार्यक्रम 55 मिनट का होगा। सीएम ममता सुबह 10 बजकर 25 मिनट पर कालीघाट स्थित अपने घर से शपथ ग्रहण कार्यक्रम के लिए रवाना (Mamata Banerjee) होंगी। 

कर्नाटक में लापरवाही की वजह से 24 मरीजों ने गवाई जान ! राहुल गांधी ने साधा निशाना

बता दें राजभवन में होने वाले कार्यक्रम में पार्टी सांसद अभिषेक बनर्जी, चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) और पार्टी के वरिष्ठ नेता फिरहाद हाकिम शामिल हो सकते है। साथ ही ममता बनर्जी राज्य सचिवालय जाएंगी, जहां उन्हें कोलकाता पुलिस सलामी देगी।

कौन हैं ममता

पश्चिम बंगाल की शान है। इसी वजह से पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) दीदी का कुछ नहीं बिगाड़ सके। तीसरी बार की य् जीत न सिर्फ राज्य में बनर्जी की स्थिति को और मजबूत करेगी, बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर बीजेपी के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने में भी मदद करेगी। 

यूपी-हरियाणा समेत कई राज्यों ने बढ़ाई पाबंदियां, महाराष्ट्र में 30 अप्रैल तक बढ़ा

2011 में क्या हुआ था

2001 में जब विधानसभा चुनाव हुआ तो तृणमूल कांग्रेस ने 294 सीटों में से 60 सीट अपने नाम की थी। और वाम मोर्चे को 192 सीट मिलीं। वहीं, 2006 के विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की ताकत हो गई, उन्हें सिर्फ 30 सीट ही मिली, जबकि वाम मोर्चे को 219 सीटों पर जीत मिली। 2011 के विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की, उस समय ममता बनर्जी ने 34 साल से सत्ता पर काबिज वाम मोर्चा सरकार को हरा दिया। उनकी पार्टी को 184 सीट मिले, जबकि कम्युनिस्ट 60 सीटों पर ही सिमट गए।

लोकसभा सांसद भी रहीं हैं

2016 में शानदार जीत के बाद ममता को झटके का सामना तब करना पड़ा जब शुभेन्दु अधिकारी (Suvendu Adhikari) बीजेपी की तरफ से मैदान में उतरे। बंगाली ब्राह्मण परिवार में जन्मीं बनर्जी पार्टी के कई नेताओं की बगावत के बावजूद अपनी पार्टी को तीसरी बार जीत दिलाने में कामयाब रहीं। इस बार के चुनाव में बीजेपी ने तृणमूल कांग्रेस को सत्ता से बेदखल करने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी थी, लेकिन बनर्जी एक ऐसी सैनिक और कमांडर हैं,. जिन्होंने भगवा दल को शिकस्त दे दी। वे 1996, 1998, 1999, 2004 और 2009 में कोलकाता दक्षिण सीट से लोकसभा सदस्य भी रहीं हैं। 

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here