इंडियन नेवी के बेड़े में शामिल होगा INS कवरत्ती, जानें खासियत

0
223
INS Kavaratti
इंडियन नेवी के बेड़े में शामिल होगा INS कवरत्ती, जानें खासियत

New Delhi: भारतीय नौसेना (Indian Navy) के बेड़े में एक खास जहाज शामिल होने जा रहा है। नौसेना की ताकत बढ़ाने वाला ऐंटी-सबमरीन युद्धपोत आईएनएस कवरत्ती (INS Kavaratti) औपचारिक रूप से इंडियन नेवी में शामिल होगा। आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे (MM Naravane) ने इस स्‍वदेशी कॉर्वेट को नेवी का हिस्‍सा बनाया। इस युद्धपोत की खासियत है कि यह रडार की पकड़ में नहीं आता।

मेड इन इंडिया (Made In India) आईएनएस कवरत्ती (INS Kavaratti) को डायरेक्टॉरेट ऑफ नेवल डीजाइन (DND) ने डिजाइन किया है। आईएनएस करवत्‍ती नाम का यह दूसरा जहाज है जो नौसेना में शामिल हुआ है। पुराना आईएनएस कवरत्‍ती 1971 में पूर्वी पाकिस्‍तान में सक्रिय था। इसके अलावा नौसेना के पास तीन और ऐसे ही युद्धपोत हैं। कवरत्ती उन चार ऐंटी सबमरीन युद्धपोतों में से अंतिम है, जिनका निर्माण जीआरएसई ने परियोजना पी28 के तहत भारतीय नौसेना के लिए किया है।

भारत के इतिहास में पहली बार होगी इस महंगे मसाले की खेती

कवरत्ती जीआरएसई द्वारा निर्मित 104वां पोत होगा। इसका 90 फीसदी हिस्सा स्वदेश निर्मित हैं। रक्षा सूत्रों ने बताया कि पोत परमाणु, केमिकल और बायलॉजिकल युद्ध की स्थिति में भी काम करेगा। इस ‘कवरत्ती’ का निर्माण कोलकाता के गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स ने किया है। इस पोत के नौसेना में शामिल होने से इसकी ताकत में और भी इजाफा होगा।

मोदी सरकार दे रही है 30 लाख कर्मचारियों को बोनस, जानें डिटेल्स

INS कवरत्ती की खासियत

आईएनएस कवरत्ती की लंबाई 109 मीटर और चौड़ाई 12.8 मीटर है। ये अत्याधुनिक हथियारों, रॉकेट लॉचर्स, एकीकृत हेलीकॉप्टर्स और सेंसर से लैस है। युद्धपोत कवरात्ती प्रोजेक्ट 28 के तहत निर्मित भारतीय नौसेना का एक पनडुब्बी रोधी जहाज है। ये पोत परमाणु, रासायनिक और जैविक युद्ध की स्थिति में भी काम करेगा।

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें और Twitter पर फॉलो करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here