गलवान घाटी पर 2 किमी पिछे हटे चीनी सैनिक

गलवां घाटी में चीनी सैनिकों ने अपने स्थान से पीछे हटना शुरू कर दिया है। चीनी सैनिक अपने टेंट को हटाकर पीछे की तरफ ले जा रहे हैं। सूत्रों ने इस बात की जानकारी दी है। 

0
563
India-China Issue
LAC पर लंबे समय तक जारी रह सकता है चीन के साथ गतिरोध

New Delhi: भारत-चीन सीमा (India-China Border) पर लगातार चल रहे तनाव के बीच एक राहत भरी खबर सामने आ रही है। न्यूज एजेंसी ANI ने भारतीय सेना के सूत्रों के हवाले से बताया कि चीनी सेना सीमा (India-China Border) पर अब पीछे लौट रही है। उन्होंने अपने टेंट्स और हथियारों को भी पीछे ले लिया है। बता दें कि बीते काफी दिनों से दोनों देशों के बीच सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर बातचीत जारी है।

पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला

ANI ने बताया कि (India-China Border) चीन ने अपने टेंट्स, गाड़ियों और सेना के जवानों को जिस इलाके में झड़प हुई थी वहां से 1-2 किलोमीटर तक पीछे खींच लिया है। बताया जा रहा है कि ऐसा कॉर्प कमांडर स्तर की बैठक के बाद लिया गया फैसला है। वहीं सूत्रों ने बताया कि चीनी सेना के हथियारों से लैस वाहन अब भी गलवान घाटी के गहराई वाले क्षेत्रों में स्थित हैं।

भारतीय सेना चीनी सेना के हर मूवमेंट पर सावधानी से नजर बनाए हुए है। इसी संबंध में भारतीय सेना द्वारा तुरंत मांग को पूरा करने को लेकर हजारों अत्यधिक ठंड की मार झेलने वाले टेंट्स का ऑर्डर दे दिया है। ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि ANI के सूत्रों ने बताया था कि यह तनाव सितंबर से अक्टूबर तक जारी रह सकता है।

क्या कहते है आपके आज के सितारे ?

जानकार इसे तनाव घटाने की तरफ पहला कदम मान रहे हैं। बता दें कि 15 जून की रात दोनों देशों के जवानों के बीच खूनी संघर्ष में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे जबकि चीन के 40 जवान मारे गए थे। लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिक डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया के तहत करीब 1.5 किमी पीछे हट गए हैं। चीनी सैनिकों ने अपने कैंप भी पीछे हटाए हैं। खबरों के मुताबिक वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर दोनों देशों की सेना ने रिलोकेशन पर सहमति जताई थी। बताया जा रहा है कि गलवान घाटी को अब बफर जोन बना दिया गया है ताकि आगे फिर से कोई हिंसक घटना न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here