चीन को बड़ा झटका, रेलवे ने 44 वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण का टेंडर किया रद्द

रेलवे ने अब 44 सेट सेमी हाई स्पीड ट्रेन के निर्माण के लिए जारी टेंडर रद्द कर दिया है। सरकार द्वारा इन ट्रेनों के टेंडर कैंसिल होने से चीन को बड़ा झटका लगा है।

0
240
Vande Bharat Trains
चीन को बड़ा झटका, रेलवे ने 44 वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण का टेंडर किया रद्द

New Delhi: पूर्वी लद्दाख में चीन के धोखे के बाद भारत चीन के खिलाफ सख्त फैसले ले रहा है। रेलवे ने अब 44 सेट सेमी हाई स्पीड ट्रेन (Vande Bharat Trains) के निर्माण के लिए जारी टेंडर रद्द कर दिया है। खास बात यह है कि सेमी हाई-स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस के लिए मांगे गए ग्लोबल टेंडर में चीन की सरकारी कंपनी भी शामिल थी।

भारत से 47 और चीनी ऐप हुए बैन, PUBG भी हो सकता है शामिल

रेल मंत्रालय (Ministry of Railways) ने शुक्रवार को देर रात इस बारे में जानकारी दी है। मंत्रालय ने ट्वीट करते हुए कहा “वंदे भारत की 44 सेमी हाई स्पीड ट्रेनों के निर्माण के लिए जारी किए गए टेंडर को रद्द कर दिया गया है। इसका नया टेंडर मेक इन इंडिया (Make In India) अभियान को ध्यान में रखकर तैयार किए गए संशोधित सरकारी खरीद नीति के तहत एक सप्ताह में जारी किया जाएगा.”

सरकार द्वारा इन ट्रेनों के टेंडर कैंसिल होने से चीन को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, चीनी कंपनी की ज्वाइंट वेंचर सीआरआरसी पायनियर इलेक्ट्रिक प्राइवेट लिमिटेड (CRRC Pioneer Electric (India) Pvt. Ltd.) इकलौती विदेशी कंपनी थी, जिसे यह टेंडर मिला था। इसके अलावा अन्य 5 कंपनियों को भी इस सेमी हाई स्पीड ट्रेनों के 44 सेट्स तैयार करने का टेंडर मिला था।

भारत के बाद अब अमेरिका ने भी लगाया Chinese App TikTok पर बैन

सूत्रों का कहना है कि रेलवे पूरी तरह घरेलू कंपनियों को टेंडर देने के पक्ष में है। जब उसे लगा कि परियोजना की दौड़ में चीनी कंपनी भी आगे हो सकती है तो उसने टेंडर रद्द कर दिया। टेंडर की दौड़ में सरकारी कंपनी भारत हैवी इलेक्टि्रकल्स लिमिटेड (Bharat Heavy Electricals Limited), भारत इंडस्ट्रीज संगरूर (Bharat Industries Sangrur), इलेक्ट्रोवेव्स इलेक्ट्रॉनिक्स (पी) लिमिटेड (Electrowaves Electronics Pvt. Ltd.), मेधा सर्वो ड्राइव्स लिमिटेड (Medha Servo Drives) भी शामिल थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here