नगर निगम चुनाव में बीजेपी ने चलाया अपना सिक्का, दक्षिण भारत में खुला रास्ता

नगर निगम चुनाव में बीजेपी को सफलता हासिल हो सकती है। इसी के चलते दक्षिण भारत में अपना खाता खोल लिया है।

0
264
GHMC Elections results 2020
नगर निगम चुनाव में बीजेपी को सफलता हासिल हो सकती है। इसी के चलते दक्षिण भारत में अपना खाता खोल लिया है।

Hyderabad: हैदराबाद में नगर निगम चुनाव में बीजेपी को सफलता हासिल हो सकती है। इसी के चलते दक्षिण भारत में अपना खाता खोल लिया (GHMC Elections results 2020) है। 2016 के चुनाव में बीजेपी सरकार को महज चार सीटें मिली थीं। उस समय बीजेपी ने टीडीपी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा था। लेकिन इस बार का चुनाव अकेले दम लड़ा था। 

हर साल 4 दिसंबर को क्यों मनाया जाता है भारतीय नौसेना दिवस?

हैदराबाद से भाजपा को तेलंगाना के साथ आंध्र प्रदेश में भी लाभ मिलने की उम्मीद (GHMC Elections results 2020) है। कहने को तो यह एक बड़े स्थानीय निकाय के चुनाव हैं, लेकिन इनका महत्व भाजपा की दक्षिण भारत की राजनीति के लिए बेहद खास है। इसी वजह से भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां पर प्रचार प्रसार किया था।

इस बार के चुनाव में एआईएमआईएम ने तो अपना प्रदर्शन (GHMC Elections results 2020) बरकरार रखा है, लेकिन टीआरएस को बड़ा झटका लगा है। बीजेपी ने बड़ी सेंध लगाकर 2023 के विधानसभा चुनाव के लिए टीआरएस के सामने बड़ी चुनौती रख दी है। हाल में हुए विधानसभा उपचुनाव में भी भाजपा ने टीआरएस को मात देकर उससे सीट छीनी थी। इसके पहले 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के चार सांसद इसी जगह से चुने गए थे। 

कुछ हफ्तों में आ जाएगी वैक्सीन! पीएम ने कई मुद्दों पर की चर्चा

बता दें बीजेपी के खाते में 88 सीटे जाती हुई दिख रही थी और यही ट्रेंड भी कर (Hyderabad News) रहा था। इतिहास में पहली बार हैदराबाद में बीजेपी पार्टी का कब्जा होगा। यहां मुख्य मुकाबला AIMIM,BJP और TRS के बीच है। यहां बीती 1दिसंबर को मतदान हुआ था, जिसमें 74.67 लाख मतदाताओं में से केवल 34.50 लाख (46.55 प्रतिशत) ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। कुल एक सौ पचास सीटों के लिए 1122 प्रत्याशी शामिल हुए थे।

बीजेपी सरकार ने कई बार हैदराबाद (Hyderabad News) में सत्ता हासिल करने की कोशिशि की थी, लेकिन हर बार हार का सामना करना पड़ा था। इस बार के नगर निगम चुनाव की बात की जाए तो समीकरण पलटता हुए नजर आ रहा है। अब बीजेपी आंध्र प्रदेश में भी आगे बढ़ने की कोशिश करेगी। तमिलनाडु और केरल अभी भी कमजोर कड़ी है, लेकिन हैदराबाद का आक्रमक रणनीति से बना रास्ता उसे दक्षिण के अन्य राज्यों तक पहुंचा सकता है। फिलहाल, भाजपा के लिए दक्षिण भारत में अपनी मजबूत पहचान और विश्वसनीयता को कायम करना है ताकि क्षेत्रीय दलों के वर्चस्व वाले इन राज्यों में वह अपनी सत्ता जमा सके। 

राजनीति से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें Political News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here