2023 में भारत करेगा G-20 की मेजबानी, अगले दो साल इन देशों में होगा आयोजन

भारत समिट की मेजबानी साल 2023 में करने वाला है। भारत वर्ष इस बार 2022 की जगह 2023 (G20 Summit in 2023) में होगा।

0
265
G20 Summit in 2023
भारत समिट की मेजबानी साल 2023 में करने वाला है। भारत वर्ष इस बार 2022 की जगह 2023 (G20 Summit in 2023) में होगा।

New Delhi: दुनिया के बीस बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शामिल भारत समिट की मेजबानी साल 2023 में करने वाला है। कोरोना की वजह से भारत वर्ष इस बार 2022 की जगह 2023 (G20 Summit in 2023) में होगा। सऊदी अरब की ओर से आयोजित 15वें G20 शिखर सम्मेलन के समापन के बाद अब अगला सम्मेलन 2021 (G20 Summit in 2023) में इटली में होगा। 

2024 लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटी बीजेपी, नड्डा करेंगे हर राज्य का दौरा

बता दें 2022 में इंडोनेशिया और 2023 में G20 सम्मेलन (G20 Summit in 2023) की मेजबानी भारत करेगा। सम्मलेन के समापन पर प्रधानमंत्री मोदी ने सऊदी अरब की तरफ से किए गए सफल आयोजन पर आभार जताया। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत G20 के सदस्य देशों के नेताओं ने इस बात पर जोर दिया कि सभी के लिए कोविड-19 के निदान, उपचार और टीके किफायती और समान तरीके से उपलब्ध कराया जाएगा। इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने जी-20 समिट में प्रभावी तरीके अपना पक्ष रखा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वर्चुअली आयोजित जी-20 शिखर सम्मेलन में कहा कि भारत न केवल अपने पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा कर रहा है, बल्कि उससे आगे भी बढ़ रहा है। 

G-20 Summit: पीएम मोदी बोले- द्वितीय विश्व युद्ध के बाद कोविड-19 सबसे बड़ी चुनौती

जी20 नेताओं ने यह भी कहा कि कोविड-19 (G20 Summit in 2023) महामारी और लोगों की जिंदगियों, रोजी रोटी और अर्थव्यवस्थाओं पर असर के लिहाज से इसके अभूतपूर्व प्रभाव ने ऐसा झटका दिया है कि तैयारियों और कार्रवाई में नाजुकपन सामने आया है और साझा चुनौतियां उजागर हुई हैं। उन्होंने पिछले दो दिन में महामारी से संबंधित अनेक मुद्दों पर विचार के बाद कहा कि हम सभी विकासशील और अल्प विकसित देशों के समर्थन के लिए प्रतिबद्ध हैं क्योंकि उन्हें कोविड-19 के स्वास्थ्य, अर्थव्यवस्था संबंधी और सामाजिक प्रभावों का एक साथ सामना करना पड़ा है। नेताओं ने अफ्रीका और छोटे द्वीपीय विकासशील राज्यों में विशेष चुनौतियों का जिक्र किया। समूह के नेताओं ने शेष वैश्विक वित्तीय जरूरतों पर ध्यान देने की प्रतिबद्धता जताई। 

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here