किसानों को मनाने की कवायद शुरु, आमने-सामने होंगे किसान और सरकार

इस कानून का विरोध दिल्ली और यूपी तक भी पहुंच गया है। अब इस मुद्दे पर सरकार बातचीत करने को तैयार है।

0
325
Farmers Protest Update
इस कानून का विरोध दिल्ली और यूपी तक भी पहुंच गया है। अब इस मुद्दे पर सरकार बातचीत करने को तैयार है।

New Delhi: कृषि कानून के संसद से पारित होने के बाद से किसानों का विरोध शुरु हो गया था। और इस कानून का विरोध (Farmers Protest) दिल्ली और यूपी तक भी पहुंच गया है। अब इस मुद्दे पर सरकार बातचीत करने को तैयार है। दिल्ली पहुंचे आंदोलनरत किसानों के नेताओं को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने मंगलवार को बातचीत के लिए न्योता दिया है। यह बैठक दोपहर तीन बजे विज्ञान भवन में होगी। इससे पहले सरकार ने किसान भाइयों के साथ अगले दौर की बातचीत तीन दिसंबर को करने का फैसला लिया था। लेकिन अब आज ही बात करने को तैयार (Farmers Protest) हो गए है। 

 Singhu और Tikri बॉर्डर पर जाम, किसानों ने केंद्र सरकार का प्रस्ताव ठुकराया

कृषि कानून के खिलाफ 5 दिनों से हो रहा विरोध-

बता दें आंदोलनकारियों ने सरकार को धमकी देते हुए कहा था कि आने वाले पांच दिन हम दिल्ली के मार्गों को बंद कर देंगे। किसानों को नए कृषि कानूनों (Farmers Protest) के बारे में आशंका है कि इससे न्यूनतम समर्थन मूल्य समाप्त हो जाएगा। इस बीच कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कोरोना वायरस और सर्दी को ध्यान में रखते हुए हमने किसान यूनियनों के नेताओं को 3 दिसंबर की बैठक से पहले बातचीत को मना किया था। लेकिन यह बैठक आज ही दिल्ली के विज्ञान भवन में दोपहर बाद तीन बजे बुलाई गई है।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह (Narendra Singh Tomar) ने कहा कि जब कृषि कानून लाया (Farmers Protest Update) गया, तो इसने किसानों के बीच कुछ गलतफहमी पैदा हो गई थी। हमने 14 अक्टूबर और 13 नवंबर को किसान नेताओं के साथ दो दौर की बातचीत की थी। उस समय भी हमने उनसे कहा था कि वे आंदोलन के लिए नहीं जाएं और सरकार वार्ता के लिए तैयार है। 13 नवंबर को हुई बैठक में शामिल सभी किसान नेताओं को इस बार भी आमंत्रित किया गया है। जिससे तीन नए कृषि कानूनों से उपजी किसानों की चिंताओं को दूर किया जा सके। 

दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का धरना जारी, राजधानी में जाने से किया इंकार

पहले भी हो चुकी है बैठक-

इस बीच कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने 32 किसान यूनियनों के प्रतिनिधियों को पत्र लिख कर आज की बैठक में चर्चा के लिए आमंत्रित किया (Farmers Protest Update) है। अग्रवाल ने जिन संगठनों को पत्र लिखा है उनमें क्रांतिकारी किसान यूनियन, जम्मुहारी किसान सभा, भारतीय किसान सभा, कुल हिंद किसान सभा और पंजाब किसान यूनियन शामिल हैं। इससे पहले 13 नवंबर को हुई बैठक हुई थी। इस बैठक में किसानों की मांगों का हल नहीं निकला था। 

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here